हमारे शरीर में कई ऐसी हरकतें होती हैं, जिन्हें आप खुली आंखों से नहीं देख सकते. खुली आंखों से इसलिए कहा क्योंकि ये चीज़ें आपके साथ सोते वक़्त होती हैं. इन पर हमारा नियंत्रण नहीं होता, हम बस ये महसूस करते हैं और अपना अच्छा-बुरा अनुभव याद करते हैं.

1. सपने में सपना देखना

Source- Psychologytoday

कई बार लोग सोते हुए बार-बार जागते हैं, ये असल में जागते नहीं हैं बल्कि सपने में देख रहे होते हैं कि ये जाग गए. लोगों का मानना है कि ये आध्यात्म की तरफ़ ध्यान न देने का संकेत होता है.

2. नींद में चलना

Source- Healthresource

ये लक्षण स्लीप पैरालिसिस से ठीक उल्टा होता है. इसमें आपका दिमाग सो जाता है पर मांस-पेशिया नहीं. ऐसे में लोग चलने लगते हैं और कई बार घर से बाहर भी चले जाते हैं, जो कि ख़तरनाक होता है. सुबह उन्हें कुछ याद नहीं होता. ये दुनिया की 4 से 10 प्रतिशत आबादी को होता है, जिसमें बच्चे ज़्यादा होते हैं. इसका कारण आज तक कोई नहीं जान पाया.

3. नींद में बातें करना

Source- Huffpost

नींद में बात करने को Somniloquy कहते हैं. ऐसे में बात करने वाले व्यक्ति को नहीं पता होता कि वो बोल रहा है. ये कोई गंभीर बीमारी नहीं है, बस आप अपने सीक्रेट किसी के सामने न बोल दें. इसका कारण तनाव हो सकता है, जब आपका दिमाग लाइफ़ में चल रही चीज़ों से सहमत नहीं होता.

4. Exploding Head Syndrome

Source- Exhealth

इस कंडिशन में लोगों को लगता है कि कोई तेज़ धमाका हुआ है या किसी ने ताली बजाई है, जिसके बाद वो अचानक जाग जाते हैं. ये आवाज़ उन्हें इतनी तेज़ लगती है, कि जैसे उनका कान फट गया हो. ऐसे में लोगों को लगता है कि उन्हें दौरा पड़ा है. ये तब होता है जब दिमाग का वो हिस्सा, जो आवाज़ पर प्रतिक्रिया देता है, उसमें कोई गतिविधी हो.

5. सोते हुए सांस न ले पाना

Source- Nhs

अकसर आपने ये महसूस किया होगा कि सोते-सोते आपको घुटन होने लगी और आप झटके से उठ गए. जब दिमाग को आॅक्सिजन की कमी महसूस होती है, ये तब होता है. इससे आर्टिरियल प्रेशर कम-ज़्यादा होता है, जिससे दिल का रोग हो सकता है. सोते वक़्त Pharynx Muscles भी रिलैक्स हो जाती हैं, जिससे सांस रुकती है. ये अधिकतर मोटे लोगों में होता है, या उनमें जो ज़्यादा सिगरेट पीते हैं.

6. बार-बार एक ही सपना देखना

Source- Dreams

कई लोगों को बार-बार एक ही सपना आता है. वैज्ञानिकों की मानें तो ये लोगों को उस ओर इशारा करता है, जिस पर वो ध्यान नहीं दे रहे. जब लोग उस चीज़ पर ध्यान देने लगते हैं, तब वो परेशानी ख़त्म हो जाती है.

7. नींद में बिस्तर से गिरना

Source- Mundotkm

कई बार आपको महसूस हुआ होगा कि आप बिस्तर से नीचे किसी खाई में गिर रहे हैं. ऐसे में हम झटके से उठ जाते हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सोने की प्रक्रिया मरने जैसी होती है. जब आप सोते हैं तब दिल की धड़कनें और सांस धीरे हो जाती हैं, मांस-पेशियां ढीली पड़ जाती हैं. ऐसे में दिमाग डर जाता कि कहीं आप मर तो नहीं गए इसलिए ये देखने के लिए वो मांस-पेशियों को सिग्नल भेजता है.

8. सोते हुए खुद को देखना

Source- Uratex

ये एक Neuropsychological Phenomenon होता है, जिसमें व्यक्ति आधा सोता है और आधा जागता है. वो खुद को सोता हुआ देखता है. इससे व्यक्ति को एहसास होता है कि वो उसके अंदर की आत्मा थी. वैज्ञानिक मानते हैं कि ये सिर्फ़ सोचना होता है और असलियत में आत्मा शरीर से नहीं निकलती. ये कैसे होता है, इसका किसी को कोई अंदाज़ा नहीं है.

9. Hypnagogic Hallucinations

Source- Healthnews

कई लोग जब नींद में होते हैं और सोने से ठीक पहले उनकी आंखें कुछ बंद और कुछ खुली होती हैं, उन्हें कुछ डरावने चेहरे दिखते हैं. ये चेहरे अजीब से ख़तरनाक हो सकते हैं. ये Hallucination दिमागी रूप से स्वस्थ लोगों के साथ होता है. ये अधिकतर बच्चों के साथ होता है, जिन्हें सोने की इच्छा नहीं होती. ये ज़्यादा तनाव की वजह से हो सकता है, या ज़्यादा सोचने की वजह से भी. ये तब भी होता है जब आप शराब पी कर सोएं.

10. नींद में ज्ञान की प्राप्ति!

Source- Blogspot

कई बार जब हम किसी परेशानी से जूझ रहे होते हैं और बार-बार उसी के बारे में सोच रहे होते हैं, तो दिमाग हमें उसका समाधान देता है. आपको बस वो याद रखना है. रूस के कैमिस्ट Dmitri Mendeleev को Periodic Table बनानी थी और उन्होंने वो सपने में देखा था. ऐसा ही कैमिस्ट August Kekulé के साथ हुआ था, जो Benzene का फ़ॉर्मूला खोज नहीं पा रहे थे. कई बार आपके अवचेतन मन को जवाब पता होता है, लेकिन वो आपके चेतन मन तक नहीं पहुंचता. सोते वक़्त आपका अवचेतन मन ज़्यादा एक्टिव होता है और आपको एक सूत्र दे देता है.

11. स्लीप पैरालिसिस

Source- Lucid

रात को सोते वक़्त आपको ऐसा लगाना की आपको कोई मार रहा है या आप खाई में गिर रहे हैं पर कुछ कर नहीं पा रहे. कोई और है आपके बगल में आपको मारने के लिए. ऐसा इसलिए होता है कि जब हम सोते हैं, तो हमारी मांस पेशियां भी सो जाती हैं, पर दिमाग जागता रहता है. दुनिया की 7 प्रतिशत आबादी को जीवन में एक बार तो इसका अनुभव हुआ है.

अब नींद के बारे में इतना कुछ पता चल गया है, तो रात में नींद तो अच्छी ही आएगी. चलिए इसे शेयर भी कर लीजिए, ताकि हमें भी अच्छी नींद आए!

Source- Brightside