किसी ने क्या खूब कहा है कि 'कौन कहता है कि आसमान में छेद नहीं हो सकता? एक पत्थर तो ज़रा तबियत से उछालो यारों.' ऐसा ही एक पत्थर 12 साल की निष्ठा कुमारी ने उछाला है, जिसके मज़बूत इरादों के सामने उसकी कमजोरी ने भी हार मान ली.

ख़बरों के मुताबिक, झारखंड की रहने निष्ठा एक हाथ से अपंग हैं, पर अपने खेल से वो स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन के अंडर 19 मैच तक पहुंची. यहां हुए एक डिस्ट्रिक मैच में निष्ठा की धनबाद वाली टीम हार गई, पर अपने खेल से निष्ठा ने काफ़ी वाह-वाही लूटी.

दरअसल, इस मैच में धनबाद की पूरी टीम 60 रन बना कर ऑउट हो गई, जबकि निष्ठा ने इसी मैच में 13 गेंदों में 12 रन बनाये और नॉट ऑउट रही. निष्ठा के इस खेल ने लोगों का ध्यान अपनी तरफ़ खींचा.

निष्ठा का एक हाथ बचपन से ही नहीं है, पर उसने कभी इसे अपनी कमजोरी नहीं बनने दिया. बचपन से क्रिकेट का सपना देखने वाली निष्ठा का चयन ट्रायल के बाद उसके खेल की वजह से 9 मई को धनबाद डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन ने अंडर 19 के लिए किया. निष्ठा के पसंदीदा खिलाड़ी विराट कोहली हैं, जिन्हे वो अपना आदर्श भी मानती है.

Source: indiatimes