"मेरी ख्वाहिश है कि मैं फिर से फरिश्ता हो जाऊं

मां से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊं"

"अभी ज़िंदा है मां मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा

मैं जब घर से निकलता हूं दुआ भी साथ चलती है.”

- मुनव्वर राना

सच ही कहा गया है कि मातृत्व एक औरत के जीवन की तमाम खुशियों से ऊपर होता है. इस खूबसूरत एहसास यानि कि एक बच्चे को जन्म देने में एक औरत को चाहे जितना दर्द हो, पर जब वो अपनी संतान को देखती है तो सब कुछ भूल जाती है. उसकी पीड़ा अपने बच्चे को देखने बाद उड़नछू हो जाती है और उसके चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. पूरे ब्रह्माण्ड की सबसे अविश्वसनीय और खूबसूरत प्रक्रिया है, एक बच्चे को जन्म देना.

मां बनना एक औरत के जीवन का सबसे खूबसूरत लम्हा होता है. एक बच्चे को जन्‍म देने का दर्द ही एक ऐसा एहसास है, जो पीड़ा के साथ ही सुकून भी देता है. भगवान ने जन्म देने का ज़िम्मा एक औरत को इसलिए दिया है क्योंकि इस काम के लिए जो साहस, सहनशक्ति और कोमलता चाहिए, वो सिर्फ़ और सिर्फ़ एक महिला में हो सकती है.

आज हम बच्चे को जन्म देने की इस ख़ूबसूरत प्रक्रिया की कुछ फ़ोटोज़ लेकर आये हैं, जिनको देखकर हर व्यक्ति सिर झुका कर मां को सलाम करेगा. इन सभी तस्वीरों में एक महिला भी है, जिसका नाम Doula है. वो इन महिलाओं के पास उनकी डिलीवरी के हर पल में साथ है. ये फोटोग्राफ़्स खींचने वाले फोटोग्राफ़र्स ने इन तस्वीरों के ज़रिये एक बच्चे के जन्म को ख़ूबसूरत तरीके से दिखाया है.

पहली बार अपने बच्चे को दूध पिलाती हुई मां

जन्म देने के दौरान थक चुकी एक मां

दर्द और पीड़ा से कराहती एक महिला

Labor Pain के कारण विचलित मां

उस पल प्यार भरे शब्द और नर्म स्पर्श मिल जाए तो डिलीवरी में आसानी होती है.

पसीने से भीग चुकी है ये मां

डिलीवरी से पहले मदद करती Doula

जब परिस्थिति कठिन हो जाती है, तब सबसे ज़्यादा ज़रूरत होती है भावनात्मक सहारे की

दर्द को कम करने की कोशिश और जल्द ही मां बनने वाली महिला की मदद करते हुए Doula

डिलीवरी के दौरान महिला का हाथ पकड़े हुए Doula

जन्म देती हुई महिला का सांत्वना देते हुए Doula

प्रसव की पीड़ा को बयां कर रही है ये तस्वीर

प्रसव की पीड़ा के कारण घबराई और डरी हुई महिला

पीड़ा के साथ सुकून भी

अद्भुत, अविश्वसनीय और अकल्पनीय

इन तस्वीरों को देखने के बाद आपका सिर भी मां के सजदे में झुक जाएगा.