मानव शरीर की रचना किसी रहस्य से कम नहीं है. करोड़ों कोशिकाओं से मिल कर बना यह शरीर अपने आप में एक अद्भुत पहेली नज़र आता है. हमारे शरीर में जितनी ज़्यादा हैरान कर देने वाली क्षमताएं पाई जाती हैं, उसी तरह से इस शरीर में अनेक कमियां भी समय-समय पर कुछ लोगों में देखने को मिल जाती है. दिल और दिमाग को हैरान करके रख देने वाली ऐसी ही कुछ अज़ीबोगरीब मेडिकल कंडीशनस के बारे में आज हम बात करते हैं.

1. Tourette’s Syndrome with Coprolalia

यह एक प्रकार का न्यूरोसाइकियाट्रिक डिसऑर्डर होता है. इसमें व्यक्ति का बात करते समय शब्दों के साथ होने वाले शारीरिक हावभावों पर नियन्त्रण नहीं रहता है. जैसे कि बोलते समय अचानक से आंख मारने लगना, छींकने लगना या किसी शब्द का अजीब तरीके से उच्चारण करना आदि.

2. डर्मेटोग्राफिया

Source: dermatalk

इस बीमारी में शरीर की चमड़ी की इलास्टिसिटी क्षमता प्रभावित होती है. इस डिसऑर्डर से प्रभावित व्यक्ति की चमड़ी पर किसी नुकीली चीज़ से कुछ निशान बनाया जाये या कोई खरोंच उसे आ जाये, तो उसका निशान लगभग 30 मिनट तक उभरा हुआ रहता है. इस डिसऑर्डर को स्किन राइटिंग के नाम से भी जाना जाता है. कुछ लोगों में यह निशान कई दिनों तक भी बने रहते हैं.

3. Ehlers-Danlos Syndrome

Source: doctorsgates

ऊतकों की शारीरिक क्षमता बनाये रखने में शरीर में मौजूद कोलेजन मदद करते हैं. इस डिसऑर्डर की वजह से कोलेजनस में डेफिसियेंसी उत्पन्न हो जाती है. इस वजह से शरीर की त्वचा की इलास्टिसिटी बढ़ जाती है. इसे हाइपरइलास्टिक कहा जाता है. इसके अलावा शरीर के जोड़ों में भी काफ़ी दर्द होता है, इंसान अपने सामान्य काम भी आसानी से नहीं कर पाता है.

4. टिनिटस

Source: netdoctor

यह बीमारी काफ़ी ज़्यादा इरिटेट कर देने वाली है, इस बीमारी में पीड़ित को 24 घंटे अजीब-अजीब तरह की आवाज़ें सुनाई देती रहती है, जबकि वास्तव में ऐसी कोई आवाज आ ही नहीं रही होती है.

5. अकिनेटोप्सिया

Source: fromthemesstothemass

इस बीमारी में पीड़ित को किसी ऑब्जेक्ट की गति को समझने में दिक्कत होती है. जब कोई चीज़ गति में होती है, तो वो उसे सही से देख नहीं पाता है. लेकिन वो ये ज़रुर समझ जाता है कि वो चीज़ आखिर है क्या. इसे एक न्यूरोसाइकोलॉजिकल डिसऑर्डर माना जाता है. यह वैसे ही है, जब हम किसी फ़िल्म को फ़ास्ट और फॉरवर्ड करके देख रहे होते हैं.

6. Body Integrity Identity Disorder

Source: onedio

यह बीमारी भी काफ़ी अजीब सी है. इसमें पीड़ित को लगता है कि उसके शरीर के कुछ हिस्से उसके ख़ुद के नहीं, बल्कि किसी और के हैं. ऐसा ख़ास कर हाथ और पैरों को ले कर होता है. ऐसे में वह व्यक्ति सोचता है, अगर इन्हें उसके शरीर से निकाल दिया जाये, तो उसे काफ़ी आराम महसूस होगा.

7. सिनेसथिसिया

Source: npr

ऐसे लोगों में सेन्स को लेकर ओवरलैपिंग होने लगती है. इंसान एक तरह के सेन्स को किसी दूसरी तरह के सेन्स से रिलेट करके देख रहा होता है. ऐसे में लाल रंग उनके लिए तीव्र हो जाता है, तो नीला रंग उन्हें मीठा होने का एहसास देने लगता है. यह भी एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है.

8. क्लस्टर हेडएक्स

Source: healthlifemedia

यह बहुत ही दर्दनाक डिसऑर्डर है. इसमें दिमाग के किसी एक हिस्से में अचानक से दर्द होने लगता है. यह दर्द उतना खतरनाक होता है, जितना एक मां को बच्चा पैदा करते समय भी नहीं होता है. यह ख़ास तौर पर आंखों के चारों तरफ़ होता है.

9. पॉलैंड सिंड्रोम

Source: twitter

यह बचपन में सही तरीके से शरीर का विकास ना हो पाने की वजह से होता है. इसमें सीने के एक तरफ़ के हिस्से की मांसपेशियां वृद्धि नहीं कर पाती हैं. इस वजह से सीने का एक हिस्सा पिचका हुआ नज़र आता है.

10. ब्रेस्ट हाइपरट्रॉपी

Source: create

इस डिसऑर्डर में स्तन के संयोजक उत्तकों में असामान्य रूप से वृद्धि होने लगती है. धीरे-धीरे इनके बढ़ने की गति इतनी तेज़ हो जाती है कि स्तनों का आकार भयानक रूप से बढ़ चुका होता है.

11. Superior Canal Dehiscence Syndrome

Source: lmhofmeyr

इस बीमारी में इंसान काफ़ी अजीब सी परिस्थिति में रहता है. इस बीमारी में इंसान को अपनी दिल की धड़कनों से लेकर हड्डियों के जॉइंट्स के हिलने तक की भी आवाज सुनाई देती रहती है. कुछ पीड़ितों को तो अपने आंखों को घुमाने पर होने वाली हल्की सी आवाज भी सुनाई देने लगती है.

12. Persistent Genital Arousal Syndrome

Source: lovesicklove

इसे रेस्टलेस जेनाइटल सिंड्रोम भी कहा जाता है. इसमें व्यक्ति का ख़ुद के ऑर्गज्म पर नियन्त्रण नहीं रहता है. कुछ लोगों को तो दिन में 100-100 बार ऑर्गज्म हो जाता है. इन ऑर्गज्म का सेक्सुअल डिज़ायर से कोई लेना-देना नहीं होता है.

13. Trimethylaminuria

Source: unbelievablefacts

इस बीमारी में व्यक्ति के शरीर से मछली जैसी बदबू आती रहती है. यह एक तरह का मेटाबोलिक डिसऑर्डर है.

14. Uterus Didelphys

यह डिसऑर्डर 2 हज़ार में से 1 महिला में पाया जाता है. इसमें महिला के शरीर में एक के बजाय दो गर्भाशय बन जाते हैं. कुछ महिलाओं में तो इस डिसऑर्डर की वजह से दो वेजाइना भी बन जाती है.

15. Micturition Syncope

Source: rd

इसमें पीड़ित पेशाब करने के बाद कमज़ोरी महसूस करने लगता है, कभी-कभी तो वो अपने सेन्स भी भूल जाता है. ऐसा खांसने और छींकने से भी हो जाता है. यह ख़ासकर मर्दों में पाया जाता है, अभी तक इसका कोई ठोस इलाज़ देखने को नहीं मिला है.

16. Factitious Disorder

Source: verywell

इसमें व्यक्ति जान बुझ कर पागल होने की एक्टिंग करने लगता है.

17. Aphantasia

Source: dailyjstor

इस डिसऑर्डर से पीड़ित व्यक्ति अपने दिमाग में किसी भी तरह की इमेज़ को नहीं देख पाता है. व्यक्ति अपने दिमाग में किसी तस्वीर की आकृति को सोच ही नहीं पाता है.

18. Epidermodysplasia Verruciformis

यह एक तरीके का स्किन डिसऑर्डर है. इसमें पीड़ित के हाथ और पैरों पर पेड़ों की तरह शाखाएं निकल आती है. ऐसा लगता है जैसे व्यक्ति कोई चलता फिरता पेड़ बन गया हो.

विज्ञान जिस रफ़्तार के साथ बीमारियों का इलाज़ खोजता जा रहा है, उसी अनुपात में नई-नई बीमारियां भी हमारे सामने आ रही हैं. ऊपर जिन बीमारियों का वर्णन किया गया है, इनके अलावा भी अनेक अजीबोगरीब बीमारियां इंसानी जीवन को प्रभावित करती आई हैं. हमारे वैज्ञानिक लगातार इनका इलाज़ ढूंढने में लगे हुए हैं.

Source: unbelievablefacts