हिन्दी सिनेमा, कॉमेडी और दुखद कहानियों को नाटकीय रूप देकर बना है. जब लोग अपनी दिनचर्या से बोर हो जाते हैं, तो वो अकसर फ़िल्म देखना ही पसंद करते हैं. दर्शक फ़िल्म की कहानी के साथ खुद को जोड़कर देखते हैं. इसलिए फ़िल्म में हंसने वाले दृश्य में हंसने के साथ, रोने वाले दृश्य में रोते भी हैं. भारतीय सिनेमा में Tragic फ़िल्में भी काफ़ी संख्या में बनी हैं.

आज हम आपके लिए ऐसी 30 फ़िल्में लेकर आए हैं, जिनके ख़त्म होने से पहले आपका रुमाल आंसुओं से भीग जाएगा.

1. गुज़ारिश

Source: Tribune

ऐश्वर्या बच्चन और ऋतिक रोशन के अभिनय से फ़िल्म 'गुज़ारिश' में ऐसे कई दृश्य हैं, जो आपको रोने पर मजबूर कर देंगे. इच्छामृत्यु (Euthanasia) को केन्द्र में रखकर बनी ये फ़िल्म बॉलीवुड की उन फ़िल्मों में से हैं, जो आपको रोने पर मज़बूर कर देंगी.

2. देवदास

Source: Cloudpix

शरतचन्द चट्टोपध्याय के उपन्यास पर बनी 'देवदास' का अन्त भी दुखी कर देने वाला है. देवदास (शाहरुख़ खान) और पारो (ऐश्वर्या राय) एक दूसरे से प्यार करते हैं. लेकिन पारो की शादी किसी और से हो जाती है. देवदास पारो के गम में टूटकर, शराब पीना शुरू कर देता है और एक दिन पारो के घर के सामने ही दम तोड़ देता है.

3. तेरे नाम

Source: Salman1965

'तेरे नाम' को युवाओं द्वारा काफ़ी पसंद किया गया. पूरी फ़िल्म में चली राधे (सलमान खान) और निरजरा (भूमिका चावला) की प्रेम कहानी का अन्त निरजरा के आत्महत्या करने से होता है और निरजरा के गम में पागल होकर राधे पागलखाने चला जाता है.

4. गोलियों की रासलीला रामलीला

Source: Emerzingstars

शेक्सपीयर के नाटक रोमियो-जूलियट पर आधारित इस फ़िल्म में दो समुदायों की हिंसा को दिखाया गया है. राम (रणवीर सिंह) और लीला (दीपिका पादुकोण) दो ऐसे समुदाय से आते हैं, जिनके बीच सदियों से दुश्मनी चल रही है. दोनों प्यार से इस दुश्मनी को ख़त्म करने की कोशिश करते हैं और अन्त में दर्शकों की आंखों को भिगोकर, दुनिया को छोड़कर चले जाते हैं.

5. अवारापन

Source: Watchfilmy

इमरान हाशमी और श्रिया सरन इस फ़िल्म की मुख्य भूमिका में हैं. फ़िल्म शिवम पंडित (इमरीन हाशमी) के चारों तरफ़ घूमती है. शिवम नास्तिक है, लेकिन बाद में आलिया (श्रिया सरन) के प्यार में पड़कर वह आस्तिक बन जाता है. अन्त में शिवम को उसका बॉस गोली मार देता है और फ़िल्म दुखान्त को प्राप्त होती है.

6. Kai Po Che

Source: Theasiancinemablog

'Kai Po Che' में ईशान भट्ट (सुशांत सिंह राजपूत), ओंकार शास्त्री (राजकुमार राव) और गोविंद पटेल (अमित साध) ने बेहतरीन भूमिकाएं निभाई हैं. दर्शक उस समय अपने आंसू नहीं रोक पाता है, जब ईशान को उसका सबसे अच्छा दोस्त इसलिए मार देता है, क्योंकि ईशान सांप्रदायिक दंगों में एक उभरते हुए मुस्लिम क्रिकेटर को बचाने की कोशिश करता है.

7. जिस्म

Source: Youtube

इस Erotic Love-Thriller फ़िल्म में कबीर (जॉन अब्राहम) प्यार की खातिर सोनिया (बिपाशा बसु) के अमीर पति को मार देता है. जब कबीर को पता चलता है कि सोनिया ने अपने पति की हत्या सिर्फ़ उसकी दौलत पाने के लिए करवाई है, तो सोनिया कबीर को मार देती है. इसमें जहां कबीर से अन्त में दर्शकों को सहानुभूति होती है, वहीं सोनिया का किरदार लोगों को दहला देता है.

8. अग्निपथ

Source: Youtube

'अग्निपथ' इसी नाम की क्लासिक फ़िल्म की रीमेक़ है, जिसमें अमिताभ बच्चन ने मुख्य भूमिका निभाई थी. कांचा चीना (संजय दत्त), विजय चौहान (ऋतिक रोशन) के पिता की हत्या कर देता है. विजय बड़ा होकर, कांचा से अपने पिता की मौत का बदला लेता है. फिर अन्त में खुद भी अपनी मां की गोद में दम तोड़ देता है.

9. रांझणा

Source: hdwallpapers

'रांझणा' लो-बज़ट की एक ऐसी फ़िल्म है, जो मज़बूत दिल वालों के देखने के लिए बनी है. कुंदन शंकर (धनुष), ज़ोया हैदर (सोनम कपूर) से एकतरफ़ा प्यार करता है. कुंदन, ज़ोया का प्यार पाने की हर संभव कोशिश करता है और इसी कोशिश में वो ज़ोया के प्यार की मौत का कारण बन जाता है. अन्त में कुंदन भी मर जाता है और दर्शकों को उनके आंसुओं के साथ छोड़ जाता है.

10. आशिक़ी 2

Source: Newhdwallpapers

राहुल जयकर (आदित्य राय कपूर) एक पॉप सिंगर है, जिसका करियर नशे की लत के कारण ख़त्म हो रहा है. इसी दौरान वो आरोही (श्रद्धा कपूर) से मिलता है और आरोही को गायकी की दुनिया का सुपरस्टार बना देता है. लेकिन जीवन के प्रति निराशावादी दृष्टिकोण और लोगों के तानों से आहत होकर आत्महत्या कर लेता है.

11. आनन्द

Source: Youtube

आनन्द सहगल (राजेश खन्ना) को कैंसर है और उसे पता है कि वो 6 महीने ले ज़्यादा नहीं जी पाएगा. इसके बावज़ूद भी आनन्द घुट-घुट कर मरने के बजाए, अपनी बची हुई ज़िन्दगी को ख़ुशी के साथ जीता है और जब मरता है तो दर्शक चाह कर भी अपने आंसू नहीं रोक पाते हैं.

12. रंग दे बसंती

Source: Impawards

'रंग दे बंसती' कुछ फक्कड़ी दोस्तों की कहानी है, जो मंच पर स्वतन्त्रता सेनानियों का रोल निभाते हैं. जब उनका एक पायलट दोस्त उच्च अधिकारियों की लापरवाही के कारण मारा जाता है, तो ये सभी दोस्त मिलकर उसका बदला लेते हैं और रेडियो पर पूरी कहानी बताते हैं. वहीं पर इन्हें मार दिया जाता है. फ़िल्म अन्त में रुलाने के साथ, नैतिकता और इंसानियत सम्बन्धी सवाल भी उठाती है.

13. मदर इंडिया

Source: Amazon

'मदर इंडिया' एक क्लासिक फ़िल्म है, जो एक मां की बेबसी और न्यायप्रियता को दिखाती है. राधा (नरगिस दत्त) का बेटा बिरजू (सुनील दत्त) हालात के वश, बेबस होकर डाकू बन जाता है और अपने गांव की ही एक लड़की का अपहरण करने की कोशिश करता है. राधा लड़की को बचाने के लिए अपने बेटे को गोली मार देती है और एक उदाहरण पेश करती है.

14. क़यामत से क़यामत तक

Source: Youtube

फ़िल्म में राज (आमिर खान) और रश्मि (जूही चावला) एक-दूसरे से प्यार करते हैं, लेकिन दोनों के परिवार के बीच पुरानी रंजिश है. राज और रश्मि भागकर शादी कर लेते हैं. फ़िल्म का अन्त राज और रश्मि की मौत के साथ होता है.

15. बाज़ीगर

Source: Pinterest

अजय शर्मा/विक्की मल्होत्रा (शाहरुख़ खान) अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए, अपने पिता के हत्यारे की छोटी बेटी (शिल्पा शेट्टी) को मार देता है और बड़ी बेटी (काजोल) से शादी कर लेता है. बदला लेने के बाद आखिर में वो अपनी मां की गोद में दम तोड़ देता है और दर्शकों को आंसुओं के साथ छोड़ जाता है.

16. डर्टी पिक्चर

Source: Impawards

बी-ग्रेड फ़िल्म स्टार, सिल्क स्मिथा के जीवन पर बनी इस फ़िल्म में विद्या बालन ने स्मिथा का किरदार शानदार ढंग से निभाया है. फ़िल्म के आखिर में स्मिथा का आत्महत्या करने से फ़िल्म एक दुखद अन्त को प्राप्त करती है.

17. जन्नत

Source: Webindia123

सट्टेबाज़ी की अंधेरी दुनिया के बारे में बताने वाली इस फ़िल्म में अर्जुन दीक्षित (इमरान हाशमी) की कहानी है. अर्जुन को अमीर बनने का जुनून है और वो ज़ोया (सोनल चौहान) से प्यार करता है. अन्त में उनका मरना दिल को छू जाता है.

18. लुटेरा

Source: Glamsham

'लुटेरा' प्यार, विश्वासघात और भावनाओं की कहानी है. वरुण श्रीवास्तव/ अतानानंद त्रिपाठी/ नंदू / विजय (रणवीर सिंह)का एक आपराधिक अतीत रहा है, लेकिन फिर भी वो सोनाक्षी सिन्हा से प्यार करता है. रणवीर सिंह को पुलिस के द्वारा मारे जाने से फ़िल्म ख़त्म होती है.

19. सनम तेरी कसम

Source: Thequint

इंदर (हर्षवर्धन राणे) और सारू (मवारा हॉकेन) एक दूसरे के लिए बेमेल हैं, लेकिन फिर भी एक दूसरे के प्यार में पड़ जाते हैं. सारू बीमारी के कारण मौत के काफ़ी करीब रहती है और अंत में मर जाती है. सारू के मरने के इमोशनल सीन के साथ फ़िल्म समाप्त होती है.

20. हाइवे

Source: Filmibeat

वीरा त्रिपाठी (अलिया भट्ट) का बचपन कष्टभरा रहा है, फिर वो किडनैप कर ली जाती है. अन्त में किडनैपर महावीर भाटी (रणदीप हुड्डा) की हत्या कर दी जाती है और फ़िल्म के आखिरी दृश्य तक पहुंचने तक दर्शकों की आंखें भीग चुकी होती हैं.

21. नूरी

Source: Channel42

नूरी (पूनम ढिल्लो) उत्पीड़ित है, उसका बलात्कार किया जाता है और अन्त में उसका प्रेमी यूसुफ (फारुख शेख़) भी मर जाता है. फ़िल्म देखते समय दर्शकों को दुख से ज़्यादा, समाज और व्यवस्था पर गुस्सा आता है.

22. हमारी अधूरी कहानी

Source: Impawards

'हमारी अधूरी कहानी' वास्तव में एक अधूरी प्रेम कहानी है. वसुधा प्रसाद (विद्या बालन) और आरव (इमरान हाशमी) एक-दूसरे से प्यार करते हैं. हांलाकि, वसुधा के पति हरिप्रसाद (राजकुमार राव) उन्हें साथ नहीं रहने दिया. आरव और वसुधा अन्त में मर जाते हैं, लेकिन दर्शकों के दिलों को छूने में सफ़ल रहते हैं.

23. फ़ना

Source: Nowrunning

'फ़ना' की कहानी आतंकवाद और प्यार के इर्द-गिर्द बुनी गई है. अन्त में, ज़ेनी (काजोल) का अपने आतंकवादी प्रेमी रेहान (आमिर खान) को मारना दर्शकों को रुला जाता है.

24. मुगल-ए-आज़म

Source: Imdb

मुगल-ए-आज़म सलीम (दिलीप कुमार) और अनारकली (मधुबाला) के मोहब्बत की अद्भुत दास्तां है. अकबर (पृथ्वीराज) इस मोहब्बत के खिलाफ़ है. वो अनारकली की मौत की सज़ा को तो माफ़ कर देता है, लेकिन अनारकली को हमेशा के लिए देश छोड़कर चले जाने का आदेश दे देता है. इस तरह दो प्रेमी हमेशा के लिए अलग हो जाते हैं.

25. रॉक स्टार

Source: Alliswall

हीर कौल (नरगिस फ़ाखरी) ने जनार्दन (रणवीर कपूर) को एक आम भावनात्मक प्राणी से बदल कर रॉक स्टार बना दिया. मगर, आखिर में हीर का मर जाना दर्शकों को रुला जाता है.

26. काइट्स

Source: Photofurl

इस प्रेम कहानी में जय (ऋतिक रोशन) और नताशा/लिंडा (बारबरा मोरी) अपने प्यार के लिए घर छोड़कर भाग जाते हैं. अन्त में नताशा, जय की जान बचाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर देती है.

27. कल हो न हो

Source: Icytales

अमन माथुर के दिल में छेद है और वो दुनिया में बस कुछ दिन का ही मेहमान है, लेकिन फिर भी ज़िन्दगी को भरपूर जीता है. जब आखिरी सीन में जब अमन बेड पर मरता है, तो उस सीन को देखने के बाद दर्शकों के आंसू नहीं रुक पाते हैं.

28. इश्कजादे

Source: Yashrajfilms

अर्जुन कपूर और परिणीति चोपड़ा के बीच शुरुआत में नफ़रत थी, जो धीरे-धीरे प्यार में बदल गई. उनका प्यार, उनके परिवार वालों को रास नहीं आता है, क्योंकि उनके बीच पुरानी रंजिश है. जब अर्जुन और परिणीति अपने प्यार के लिए नहीं लड़ पाते, तो एक-दूसरे को गोली मार लेते हैं.

29. वास्तव

Source: Youtube

'वास्तव' में संजय दत्त (रघुनाथ) ने एक अपराधी का सशक्त किरदार निभाया है. जिसे नशे की लत लग जाती है. उसका प्यार भी उसकी नशे की लत को छुड़ा नहीं पाता है. आखिर में रघु अपनी मां से विनती करता है कि वो उसे गोली मार दे, ताकि वो ईमानदारी से मर सके. मां मजबूर होकर गोली मार देती है और दर्शकों की आंखें नम हो जाती हैं.

30. दीवार

Source: Cinepages

'दीवार', हिन्दी सिनेमा के इतिहास में एक मील का पत्थर है. विजय वर्मा (अमिताभ बच्चन) हालात से मजबूर होकर अपराधी बन जाता है. विजय के भाई, रवि वर्मा (शशि कपूर) को पुलिस इंस्पेक्टर की नौकरी मिल जाती है. विजय आखिर में रवि की गोली से मारा जाता है.

फ़िल्म के अन्त में अगर दर्शकों की आंखें नम हो जाती हैं, तो इसका मतलब निर्देशक और एक्टर्स ने अपनी भूमिका के साथ पूरा न्याय किया है. ये सभी फ़िल्में दर्शकों के पैमाने पर बिल्कुल खरी उतरती हैं. अगर आप भी रुटीन सिनेमा से बोर हो गए हैं, तो इन फ़िल्मों को देख सकते हैं.

Article Source: Channel42