गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में पिछले 72 घंटों के अंदर 61 बच्चों की मृत्यु हो गई. ये वही अस्पताल है जहां ऑक्सीजन की कमी से 70 से ज़्यादा बच्चे बेमौत मारे गए थे.

इन बच्चों की मौत Encephalitis, Pneumonia, Sepsis आदि कारणों से हुईं. ये अस्पताल पहले से ही अत्यधिक रोगियों की समस्या से जूझ रहा था.

Source: Pinterest

27-29 अगस्त के बीच यहां 11 बच्चों की मौत Encephalitis से, 25 की Neonatal ICU में और 25 की General Pediatric Ward में हुई.

डॉक्टर्स का कहना है कि आने वाले दिनों में ये संख्या और बढ़ेगी. मूसलाधार बारिश के कारण Encephalitis के फैलने का ख़तरा और ज़्यादा बढ़ गया है.

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने इस मामले में कोई भी सफ़ाई नहीं दी है.

Source: Life Site News

Paediatrician डॉक्टर आर.एन.सिंह ने बताया,

'जनवरी में AES(Acute Encephalitis Syndrome) पर ढंग से रिसर्च नहीं की गई. उसके बाद सभी यूपी इलेक्शन में व्यस्त हो गए. भारी बारिश के कारण ये बीमारी और ज़्यादा फैलती है.'

डॉक्टर ने ये भी कहा कि समय रहते टीकाकरण नहीं किया गया और न ही पानी जमा होने की समस्या का समाधान नहीं किया गया. मच्छरों के पनपने को रोकने के लिए दवाई का छिड़काव भी ठीक से नहीं हुआ.

10-11 अगस्त को जब 30 से अधिक बच्चों की हो गई तब बीआरडी मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की संख्या बढ़ाई गई थी. लेकिन आने वाले रोगियों की संख्या इतनी ज़्यादा थी कि 1 बिस्तर पर 3-4 बच्चों को एडजस्ट किया गया.

कुल मिलाकर कितने बच्चों की मौत हई, ये आप गिन लीजिये. उन बच्चों के माता-पिता को शायद इंसाफ़ भी न मिले.

Source: HT

Feature Image Source: Pinterest (For Representative Purpose)