शरीर में कई तरह की बीमारियों के बारे में सुना होगा, मगर हम आपको जिस बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं, वो बहुत ही अजीब है. बांग्लादेश के 8 साल का मेंहदी हसन धीरे-धीरे पत्थर का बनता जा रहा है. जो कोई भी मेंहदी को देखता है, वो वहां से भाग जाता है. उसे देखते ही लोग भूत-भूत चिल्लाने लगते हैं. इस बात से हसन के परिवार वाले काफ़ी डरे रहते हैं और वे हसन को घर से बाहर नहीं जाने देते हैं.

Source: Metro

दरअसल, मेंहदी हसन एक अजीबोगरीब समस्या से जूझ रहा है. यह एक प्रकार का दुर्लभ चर्म रोग है. इस बीमारी की वजह से धीरे-धीरे उस का शरीर पत्थर में बदलता जा रहा है. हालत इतनी ख़राब हो चुकी है कि वो ना तो कुछ छू पाता है और न ही चल-फिर सकता है.

Source: Metro

मेंहदी बंग्लादेश के दोना रैनानगर इलाके का रहने वाला है. उसके पिता एक कैब ड्राइवर हैं और मां जहानरा बेगम घर पर रहकर उसकी देखभाल करती हैं.

अपने बेटे की बीमारी पर मेंहदी की मां कहती है कि उसका बेटा कपड़े तक नहीं पहन पाता, क्योंकि उससे उसे चुभन होती है. पूरा दिन घर में बंद रहता है. वो ना तो खेल सकता है और ना ही पढ़ लिख पा रह है.

स्कूल और मदरसे वालों ने उसे निकाल दिया, क्योंकि उसे देखकर बच्चे डर जाते हैं. अगर वो घर से बाहर निकलता है, तो लोग उसे देखकर डर जाते हैं और गालियां देते हैं.

मेंहदी के पिता कहते हैं कि मैं एक साधारण कैब ड्राइवर हूं. मेरे पास इतने पैसे नहीं हैं कि अपने बेटे का इलाज करवा सकूं.
Source: Metro

मेंहदी की मां कहती है कि मेंहदी बिल्कुल सामान्य बच्चों की तरह की पैदा हुआ था. जब वो 12 दिन का था, तो उसके शरीर पर हमने एक दाना देखा. हमने सोचा कि मच्छर के काटने से हुआ है, लेकिन धीरे-धीरे वो फैलता चला गया. उसके पैर सख़्त हो गए. शरीर पर सख़्त परत जमने लगी. हमने कई डॉक्टरों से इलाज करवाया, लेकिन कोई उसका इलाज नहीं कर पाया. मेंहदी की मां ने सरकार से अपील की है कि वो उसके बच्चे की मदद के लिए आगे आए. उसकी मदद करे, ताकि वो सामान्य हो सके.

मेंहदी को अभी तक बेहतर उपचार नहीं मिल पाया है. उसकी बीमारी उसे रोज़ कमज़ोर बना रही है.

Source: Metro