टीवी पर आजकल Advertisement का अलग ही महत्व है. अपने फ़ेवरेट प्रोग्राम के बीच में Ad का दिखाया जाना ज़्यादातर लोगों को पसंद नहीं होता. हालांकि, ये अब टीवी का अभिन्न हिस्सा हैं, इसलिए एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री की तरह ही Advertising इंडस्ट्री भी तेज़ी से बढ़ रही है. लोगों का ध्यान खींचने के लिए इन Ads को Catchy बनाने की पूरी कोशिश की जाती है.

Advertisements का मक़सद लोगों को अपने प्रोडक्ट की ओर खींचना होता है. इसलिए कई बार अलग-अलग प्रोडक्ट्स, Ad के ज़रिये ही आपस में भिड़ जाते हैं. जैसे, आपको कोक और पेप्सी के Ads तो याद होंगे जिनमें वो एक-दूसरे को जवाब देते रहते थे. इसे ही Ad War कहते हैं. ऐसी ही कुछ Ad Wars हैं जिन्होंने सबका ध्यान खींचा था. अगर इन्हें आप भूल गए हैं तो इन वीडियोज़ के ज़रिए पुरानी यादें ताज़ा हो जाएंगी.

1. पेप्सोडेंट Vs कोलगेट

इस Ad में पेप्सोडेंट ने खुलकर कोलगेट पर 'अटैक' किया. इस Ad के लिए कोलगेट ने पेप्सोडेंट को कोर्ट में घसीटा था.

Source : Fullyindia

2. रिन Vs टाइड

इस Ad में रिन ने सीधे-सीधे टाइड के 'चौंक गए' वाले पंच पर पंच किया था. इस Ad ने भी दोनों को क़ानून के दरवाज़े तक पहुंचा दिया था.

com

Source : Remoarun2u

3. Horlicks Vs Complan

इस Ad में कद बढ़ाने का दावा करने वाले Complan को Horlicks नीचा दिखाने पर तुला हुआ है.

Source : Firoj Md Shah

4. Apple Vs Blackberry

पहले अपने Ad के ज़रिये Blackberry ने Apple पर वार किया. इसका Apple ने भी करारा जवाब दिया.

Source : TheUnrelatedVideos

5. Mercedes Vs Jaguar

Mercedes ने एक क्रिएटिव Ad बनाया, लेकिन Jaguar ने अपने Ad में उसके Ad का ही मज़ाक उड़ा दिया.

Source : Dafaqtube

6. The Hindu Vs Times of India

ऐसी Ad Wars से मीडिया संगठन भी अछूते नहीं रहे. Times of India ने अपने Ad में दिखाया कि कैसे लोग अख़बार में बोरिंग Content पढ़कर सो जाते हैं, तो The Hindu ने अपने Ad में Times of India के पाठकों को ही आड़े हाथों ले लिया.

Source: Movie Freak

7. मंच Vs डेरी मिल्क

डेरी मिल्क का ये 'पहली तारीख़' वाला Ad याद है न आपको?

Source : Raj

देखिये कैसे Munch ने इस Ad को काउंटर किया था.

Source : Rachnakavi

8. पेप्सी Vs कोका कोला

ये क्या, इसमें तो ये दोनों एक दूसरे को अपने-अपने Cans ही फेंक कर मार रहे हैं.

Source : Tiser360

इस तरह के कई Ads बने, जो खुद को बेहतर या फिर अपने Rival को नीचा दिखाने के लिए थे. अलग-अलग प्रिंट Ads और TVC के ज़रिये इन प्रोडक्ट्स ने एक-दूसरे पर खूब हमले किये. Rivals ने भी उनका जवाब दिया. इन सबसे कुछ हो न हो, पब्लिक Entertain ज़रूर हुई.