बड़े-बड़े स्टार, मीडिया हाऊस, फ़ेसबुक पेज मदद के लिए अपील कर रहे थे. इसका असर भी हुआ. विपदा की इस घड़ी में लोग केरल के लिए आगे आए.

तमिलनाडु के Villupurum में रहने वाली 9 साल की अनुप्रिया, जो 4 साल से अपने गुल्लक में साइकिल के लिए पैसे बचा रही थी. उसने भी अपने सहेजे हुए पैसों को केरल के लिए दान कर दिया. कुल चार साल में अनुप्रिया ने 9 हज़ार रूपये इकट्ठा किए थे. उसने उन सभी पैसों को राहत कोष में डाल दिया.

इस दरियादिली को देख कर Hery Cycle के चेयरमैन और एम. डी पंकज एम. मंजुल ने अनुप्रिया को साइकिल गिफ़्ट की. और हर साल एक साइकिल भेंट स्वरूप देने का वादा किया.

मंजुल ने एक तस्वीर ट्वीट की और अनुप्रिया की तारीफ़ करते हुए लिखा, ' प्रिय अनुप्रिया तुम्हारा शुक्रिया तुम्हारी मां से बात करके ख़ुशी हुई. मैंने पढ़ा था कि दयालुता से संपन्न आर कार्य का असर दूसरों पर पड़ता है, तुम्हारे ज़रिए मैंने ये आज महसूस किया.

इसके पहले उन्होंने ट्वीट में लिखा था, 'अनुप्रिया तुम्हें प्रणाम है, तुम एक महान आत्मा हो... हीरो को हर साल तुम्हें एक बाइक(साइकिल) देनें में ख़ुशी होगी.

धीरे-धीरे केरल में पानी का स्तर घटना शुरू हो रहा है, कुछ समय के बाद जन जीवन वापस पटरी पर आ जाएगा, लेकिन इस विपदा के समय आम जन जिस मज़बूती के साथ खड़े रहे वो याद रखा जाएगा. मदद करने वाले ये नहीं जानते कि उनको पैसों से क्या होगा, बस उन्हें मालूम है कि इन पैसों की ज़रूरत केरल के लोगों को है.

Source: Economic Times