नोएडा में बिल्डरों के ख़िलाफ़ चल रहे विरोध प्रदर्शन का सामना आम लोगों को भी करना पड़ रहा है. Jaypee बिल्डर की मनमानी के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरे लोगों की वजह से करीब 10 किलोमीटर लम्बा ट्रैफ़िक जाम लग गया, जिसमें आम लोगों के अलावा एक एम्बुलेंस भी फंस गई.

इस एम्बुलेंस में एक सात साल की बच्ची को इमरजेंसी की हालत में हॉस्पिटल ले जाया जा रहा था, जो ट्रैफ़िक में फंसने की वजह से हॉस्पिटल तक नहीं पहुंच पाई. समय पर इलाज न मिलने की वजह से बच्ची की जान चली गई.

आगरा से दिल्ली के इलाज के लिए जा रहे बच्ची के घरवालों का कहना है कि उन्होंने पुलिस को इसकी जानकारी भी दी थी, पर उन्होंने भी कोई एक्शन नहीं लिया.

पुलिस ने इस बाबत अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ ट्रैफ़िक लगाने और नियमों को तोड़ने संबंधी मामलों में केस दर्ज किया है.

Source: indiatimes