एक 80 साल पुरानी तस्वीर, Time Travel में यकीन करने वाले लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुईं है. इस तस्वीर में एक Native अमेरिकन को आईफ़ोन इस्तेमाल करते हुए देखा जा सकता है. इस पेटिंग का टाइटल Mr Pynchon and the Settling of Springfield है. इसे 1937 में इटली के पेंटर उम्बेर्तो रोमानो ने बनाया था. इस तस्वीर में ब्रिटिश सेटलर्स और दो अमेरिकी आदिवासियों को दिखाया गया है. 1630 में इन गुटों की पहली बार अमेरिका के Massachusetts में मुलाकात हुई थी.

ख़ास बात ये है कि न ही उस समय और न ही 1930 के दशक में स्मार्टफ़ोन या सेलफ़ोन का आविष्कार नहीं हुआ था, ऐसे में ये जानना दिलचस्प होगा कि आठ दशक पहले इस स्मार्टफ़ोन की रचना के पीछे चित्रकार का Thought Process क्या रहा होगा.

Source: postalmuseum

इस तस्वीर में मौजूद दूसरे व्यक्ति को यूं तो बांधा हुआ है लेकिन वो तब भी, मेट्रों के उन तमाम लोगों की तरह व्यवहार कर रहा है जिन्हें दूसरों के फ़ोन में नज़र मारने की आदत होती है. ऑनलाइन मैगज़ीन Vice के एक लेखक ब्रायन एंडरसन ने इस तस्वीर में ये बात नोटिस की थी.

एंडरसन ने लिखा, 'हालांकि, ये साफ़ नहीं है कि ये व्यक्ति कौन है लेकिन जैसा कि देख कर लग रहा है, ये शायद एक सेल्फ़ी खींचने की कोशिश में था या शायद फ़ेसबुक पर अपनी न्यूज़ फ़ीड चेक कर रहा हो. वो जिस हिसाब से इस यंत्र को देख रहा है, मॉर्डन ज़माने में ये बेहद आम हो चला है. आज दुनिया के कई देशों में लोगों की बॉडी लैंग्वेज और कंफ़र्ट ज़ोन अपने फ़ोन के साथ कुछ ऐसा ही जान पड़ता है. मानो इस शख़्स ने कोई बकवास ट्वीट पढ़ लिया हो, या फ़िर वो बोर होते हुए अपने फ़ोन में कोई गेम खेल रहा हो या इंटरनेट सर्फ़ कर रहा हो.'

Source: newshub

गौरतलब है कि सेलफ़ोन 1970 से पहले तक अस्तित्व में नहीं आए थे और स्मार्टफ़ोंस ने भी पिछले दशक में ही पहली बार अपनी मौजूदगी दर्ज कराई थी. इतिहासकारों का मानना है कि ये कोई ब्लेड या शीशा हो सकता है क्योंकि किसी स्मार्टफ़ोन की जगह तो इन चीज़ों की संभावना ज़्यादा लगती है. खैर जो भी हो, लेकिन इस तस्वीर ने Conspiracy Theories में विश्वास करने वालों को एक नया मुद्दा ज़रूर दे दिया है.

Source: TOI