एक रिसर्च के मुताबिक दुनियाभर के वैज्ञानिक अंतरिक्ष के रहस्यों का सिर्फ़ 5 फ़ीसदी ही डिकोड कर पाए हैं. बाकी के 95 प्रतिशत के बारे में जानने के लिए पूरी दुिनिया में तरह-तरह के एक्सपेरिमेंट किए जा रहे हैं. वर्ल्ड की सबसे बड़ी स्पेस एजेंसी नासा भी इसमें जुटी हुई है. हाल ही में नासा ने इस संदर्भ में चल रहे अपने नए प्रोजेक्ट Cold Atom Laboratory के बारे में बताया है, अगर ये सफ़ल हो जाता है, तो ये हम हिंदुस्तानियों के लिए भी गर्व की बात होगी.

जी हां, ऐसा इसलिए क्योंकि नासा के इस प्रोजेक्ट को लीड करने वाली वैज्ञानिक भारतीय मूल की हैं. इनका नाम है अनिता सेन गुप्ता. अनिता एक एरोस्पेस इंज़ीनियर हैं, वो नासा के लेटेस्ट फ़ीजिक्स एक्सपेरिमेंट की प्रोजेक्ट मैनजर हैं.

Source: anitasengupta

इस प्रोजेक्ट के तहत नासा ब्रह्मांड का सबसे ठंडा स्पॉट बनाने जा रही है. ये स्पॉट अंतरिक्ष की तुलना में 10 अरब गुना ठंडा होगा. इस कंडिशन में एक अणु किस तरह बिहेव करेगा इसका पता लगाया जाएगा. धरती पर इस तापमान को बस 1-2 सेकेंड के लिए मैनेज किया जा सकता है. लेकिन अंतरिक्ष में इसे 8-10 सेकेंड तक महसूस किया जा सकेगा. इस तरह वैज्ञानिकों को अणुओं का परीक्षण करने का अधिक समय मिल सकेगा.

अनिता सेन गुप्ता पश्चिम बंगाल से ताल्लुक रखती हैं और इन्होंने Viterbi School of Engineering University, Southern California से Aerospace और Mechanical इंज़ीनियर की डिग्री हासिल की है.

अनिता नासा के कई प्रोजेक्ट्स में अहम रोल निभा चुकी हैं. इन्होंने 2012 में नासा के मंगल ग्रह पर भेजे गए Curiosity Rover के लिए Supersonic Parachute System को बनाने वाली टीम को लीड किया था. फ़िलहाल, अनिता बतौर Senior Vice President of Systems Engineering, Virgin Hyperloop One में काम कर रहीं हैं.

आशा करते हैं कि अनिता और उनकी टीम अपने मिशन में कामयाब होंगी और पूरी दुनिया में अपना और देश का नाम रौशन करेंगी.

Source: Indiatoday