अरुणाचल प्रदेश की अंशु जामसेनपा ने मंगलवार को चौथी बार माउंट एवरेस्ट पर फ़तह कर इतिहास रच दिया है. वह यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं. दो बच्चों की मां अंशु अब अगले 10 दिनों में एवरेस्ट पर दूसरी बार चढ़ाई करेंगी और अगर उनका यह प्रयास सफ़ल हो जाता है तो वह ऐसा करने वाली दुनिया की पहली महिला बन जाएंगी.

तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने इस साल अप्रैल में अंशु को हरी झंडी दिखा कर एवरेस्ट की दोहरी चढ़ाई के लिए गुवाहाटी से रवाना किया था.

अंशु की पीआर मैनेजर नंदा किराती दीवान ने कहा, 'अंशु एवरेस्ट की चोटी पर सुबह 9 बजे पहुंचीं और उन्होंने वहां देश का झंडा फ़हराया. अगर वह अपनी दोहरी चढ़ाई में सफल होती हैं तो अंशु पांच बार एवरेस्ट पर सफ़लतापूर्वक चढ़ाई करने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लेंगी'. दीवान ने कहा कि अंशु ने शनिवार 13 मई को रात 1.45 बजे चढ़ाई शुरू की थी और मंगलवार सुबह 9 बजे वह चोटी पर पहुंच गई थीं.

गौरतलब है कि 2011 में अंशु माउंट एवरेस्ट पर दस दिन के अंतराल में दो बार चढ़ी थीं और ऐसा करने वाली वह दुनिया की पहली मां बन गयी थीं. इसके बाद 2013 में भी अंशु हिमालय की तीन चोटियों, लोबुच, पोखालडे और आइसलैंड पर छह दिनों में चढ़ने में सफ़ल रही थीं. अरुणाचल के बोमडिला इलाके के मोनपा कबीले से आने वाली अंशु की सफ़लता से उनका परिवार बेहद खुश है.

Source: Topyaps