कंबोडिया की मेकोंग नदी पर एक ऐसा अनोखा पुल है, जिसे गर्मी के मौसम में बनाया जाता है और बारिश शुरू होते ही तोड़ दिया जाता है. ये पुल अपनी संरचना के लिए दुनियाभर में मशहूर है. ये पुल कामपोंग चाम और कोह पेन को एक-दूसरे से जोड़ता है. करीब 3300 फ़ीट लंबे इस पुल को बनाने में हर साल तक़रीबन 50 हज़ार बांस लगते हैं.

Source: gajabdunia

इस पुल को हर साल इसलिए तोड़ा जाता है क्योंकि बरसात के मौसम (मई से नवंबर) में इस नदी का जल स्तर काफ़ी बढ़ जाता है. बांस पानी में बह न जाएं इसलिए इनको खोलकर रख लिया जाता है. ताकि गर्मियों में इसका इस्तेमाल कर फिर से पुल का निर्माण किया जा सके.

Source: gajabdunia

गर्मियों में बांस का पुल बनाने और बारिश में हटाने की ये परंपरा कई दशक पुरानी है. कंबोडियाई सिविल वॉर के दौरान ही ऐसा नहीं हुआ था. इस पुल को इस तरह से बनाया जाता है ताकि उसमें न सिर्फ़ पैदल यात्री, बल्कि साइकिल, मोटरबाइक, कार और ट्रक भी गुजर सके.

Source: gajabdunia

इस पुल से गुज़रने वाले लोगों को टैक्स के रूप में 100 रिएल चुकाने पड़ते हैं, वहीं विदेशी पर्यटकों को इसके लिए 40 गुना अधिक कीमत चुकानी पड़ती है.

Source: gajabdunia

हालांकि, पिछले साल कम्बोडियाई सरकार ने मेकोंग नदी पर इस बांस के पुल के पास में ही कंक्रीट का पुल भी बनाया है. इसके बावजूद स्थानीय लोगों में डर है कि कहीं बांस के पुल की परंपरा ख़त्म न हो जाए, इसलिए हर साल इस पुल को बनाया जाता है.

Source: livehindustan

लेकिन यहां आने वाले विदेशी पर्यटकों का कहना है कि बांस का ये पुल अब भी पूरी मज़बूती के साथ बनाया जाता है. अब ये पुल पहले की अपेक्षा संकरा हो गया है और ज़्यादातर पैदल यात्री ही इसका इस्तेमाल करते हैं.

कित्नु यहां ये कहना मुश्किल है कि यूं बांस के पुल को बनाने और खोलने की ये परंपरा कब तक ही कायम रहेगी.

Source: phnompenhpost