ग्लोबल वार्मिंग और बेतहाशा आबादी के चलते दुनिया भर के संसाधनों में कमी देखने को मिली है. शायद यही कारण है कि लोग अब एक बने बनाए ढर्रे पर न चलकर कई विकल्पों की तरफ़ भी नज़रें दौड़ा रहे हैं, नतीजन कई नए दिलचस्प परिणाम भी दिन-प्रतिदिन सामने आ रहे हैं.

वैज्ञानिकों के मुताबिक, बीयर को ईंधन के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है और ये पेट्रोल का विकल्प साबित हो सकती है. यूनिवर्सिटी ऑफ़ ब्रिस्टल के केमिस्ट्स ने सालों-साल बिताकर एक ऐसी तकनीक ईजाद की है जो दुनिया भर में बिकने वाले Ethanol को Butanol में तब्दील कर सकने की क्षमता रखती है.

ध्यान देने वाली बात है कि Butanol ईंधन के तौर पर Ethanol से बेहतर है. Ethanol की एनर्जी डेंसिटी कम होती है और ये ज़्यादा corrosive भी होता है.

वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला की कंडीशंस में शु्द्ध सूखे Ethanol को Butanol में तब्दील करने में सफ़लता पाई. अब ये लोग टेक्नोलॉजी को बेहतर कर Ethanol Fermentation broths का इस्तेमाल करना चाहते हैं. इनमें 90 प्रतिशत पानी के साथ बाकी अशुद्ध चीज़ें भी होती हैं.

Source: mavcure

अगर बाकी ड्रिंक्स के साथ तुलना की जाए तो बीयर को फ़्यूल में बदलना ज़्यादा आसान है. यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ़ केमिस्ट्री के प्रोफ़ेसर डंकन वास के मुताबिक, एल्कॉहोलिक ड्रिंक्स में एल्कोहल दरअसल इथेनॉल ही होता है, ये वहीं molecule हैं जिसे हम पेट्रोल के विकल्प यानि Butanol में तब्दील करना चाहते हैं.

यही कारण है कि एल्कॉहलिक ड्रिंक्स, इंड्रस्टियल Ethanol फ़रमेन्टेशन के तौर पर आदर्श मॉडल हैं. ईंधन के तौर पर Ethanol का निर्माण एक Brewing process से होता है. वैज्ञानिकों के अनुसार, अगर हमारी तकनीक एल्कॉहलिक ड्रिंक्स के तौर पर सही काम करती है तो इंड्रस्टियल स्केल पर पेट्रोल के विकल्प के तौर पर Butanol एक प्रभावी उपाय हो सकता है ये.

केमिस्ट्स ने इसके लिए एक कैटेलिस्ट का भी इंतज़ाम किया. कैटेलिस्ट दरअसल किसी भी केमिकल रिएक्शन को स्पीड अप करने और कंट्रोल करने और Ethanol को Butanol में तब्दील करने के लिए इस्तेमाल होता है.

प्रोफ़ेसर वास का कहना था कि बीयर को भले ही अभी इंडस्ट्रियल स्केल के तौर पर इस्तेमाल न किया जा रहा हो लेकिन ये इस तकनीक को टेस्ट करने का शानदार मॉडल है.

Source: businessinsider

ये टीम अब इस तकनीक का एक बड़ा वर्ज़न बनाने के बारे में विचार कर रही है. माना जा रहा है कि इस काम में पांच साल लग सकते हैं. इसके अलावा वैज्ञानिक इस बात से भी हैरान है कि आखिर किस वजह से Ethanol से Butanol में तब्दील होने वाले Catalyst इतनी सटीकता से काम कर रहा है.

प्रोफ़ेसर वास के मुताबिक,बीयर किसी भी रियल इंडस्ट्रियल प्रोसेस में इस्तेमाल होने वाले केमिकल के मिक्सचर के तौर पर एक शानदार मॉडल है और कहीं न कहीं ये तकनीक वास्तविकता के करीब और भविष्य की तकनीक साबित हो सकती है. टीम की इस रिसर्च को Catalysis Science and Technology नाम के जर्नल में छापा गया है.

Source: Metro