भोपाल के रहने वाले 32 वर्षीय उदयन दास को हाल ही में पुलिस ने गिरफ़्तार किया है. उदयन दास पर आरोप है कि उसने लिव-इन में रहने वाली पार्टनर आकांक्षा शर्मा का कत्ल किया है. इतना ही नहीं क़त्ल करने के बाद उसने आकांक्षा का शरीर घर के चबूतरे में भी दफ़ना दिया.

पुलिस ने उदयन को साकेत नगर स्थित उसके घर से देर रात गिरफ्तार किया. पुलिस ने जब दवाब से पूछताछ की, तो उदयन ने इस डरावनी सच्चाई के बारे में बताया. उदयन ने ये भी बताया कि उसने 27 दिसम्बर को ही आकांक्षा का कत्ल कर दिया था.

इस हत्या का खुलासा तब हुआ, जब बंगाल पुलिस की एक टीम आकांक्षा के माता-पिता की शिकायत के बाद तलाशने के लिए भोपाल पहुंची.

सब-इंस्पेक्टर रमेश राय का कहना है कि 'उदयन इस बात को स्वीकार कर चुका है कि उसने ही कत्ल किया है, पर वो कई बार अपने फैक्ट्स बदल चुका है, जिससे अब भी कुछ सवालों के जवाब जानने बाकी हैं.'

दास ने पुलिस को बताया कि 27 दिसम्बर को आकांक्षा ने अपने पुराने बॉयफ्रेंड से बात की, जिसके बाद उनकी बहस होने लगी और ये बहस इतनी बढ़ गई कि हाथा-पाई की नौबत आ गई. इसी हाथापाई में आकांक्षा को चोट लगने से मौत हो गई. इसके बाद उदयन ने आकांक्षा के शरीर को एक लकड़ी के बॉक्स में डाला और बरामदे में दफ़ना कर सीमेंट से ढक दिया.

पुलिस के मुताबिक, आकांक्षा बंगाल के बंकुरा की रहने वाली है. आकांक्षा और उदयन की दोस्ती फेसबुक के ज़रिये 2007 में हुई थी, जिसके बाद आकांक्षा अपने घर वालों को न्यूयॉर्क में नौकरी लगने की बात कह कर भोपाल आ गई और उदयन के साथ रहने लगी.

पिछले दो महीनों से आकांक्षा अपने परिवार से यही कह रही थी कि वो न्यूयॉर्क में है. पर कुछ महीनों से आकांक्षा की परिवार वालों से बात नहीं हो पा रही थी, जिसके बाद आकांक्षा के घर वालों ने पुलिस में शिकायत की. आकांक्षा के फ़ोन को ट्रेस करके उसकी लोकेशन का पता चला. इस बारे में दास बार-बार अपने बयान को बदलता दिखा. कभी उसने कहा कि उन्होंने न्यूयॉर्क में शादी की, कभी मंदिर में. उदयन का कहना है कि उसके पिता 'BHEL' में काम करते हैं, जबकि उसकी मां एक रिटायर्ड डिप्टी सुपरिन्टेन्डेन्ट हैं.

Source: ht