भूटान दुनिया का सबसे ख़ुशहाल देश है. यहां की प्राकृतिक सुंदरता पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है. पड़ोसी मुल्क होने के नाते भूटान जाने के लिए आपको कोई ख़ास तैयारी की ज़रूरत नहीं है. न तो आपको वीज़ा की ज़रूरत है, न ही पहले से फ़्लाइट बुक कराने की टेंशन. मात्र 10 हज़ार रुपये में आप भूटान को अच्छे से एक्सप्लोर कर सकते हैं.

Source: bhutan

ये ज़रूरी नहीं कि घूमने-फिरने के लिए दोस्तों के साथ ही जाया जाये, आप अकेले भी तो ट्रेवल कर सकते हैं. ट्रेवल ब्लॉगर शिप्रा शेखर ने भी कुछ ऐसा ही किया. ट्रिप के लिए दोस्तों को मनाने के बजाय उन्होंने सोलो ट्रिप करना बेहतर समझा.

ज़रूरी बातें

Source: travelbay

भारतीय पासपोर्ट धारकों को भूटान में प्रवेश करने के लिए वीज़ा की ज़रूरत नहीं है. भूटान में हिंदुस्तानी पर्यटकों को टूरिस्ट परमिट लेना ज़रूरी है. यहां से पर्यटकों को पारो एवं थिंपू के लिए 7 दिन की अवधि का टूरिस्ट परमिट जारी किया जाता है. यदि आप थिंपू और पारो से आगे जाना चाहते हैं, तो आपको थिंपू स्थित भूटान अप्रवासन कार्यालय से ‘विशेष क्षेत्र परमिट’ की आवश्यकता होगी.

कैसे जाएं भूटान

भारत से भूटान तक पहुंचने के दो तरीके हैं – हवाई मार्ग और सड़क मार्ग.

हवाई मार्ग

हवाई मार्ग से भूटान जाने वाले पर्यटकों को पारो हवाई अड्डे से नि:शुल्क टूरिस्ट परमिट जारी किए जाते हैं. हवाई मार्ग से भूटान जाने के लिए 3 महीने पहले टिकट करानी होंगी, ताकि टिकट सस्ती मिले. आने जाने की टिकट आपको सिर्फ़ 4000 रुपये तक में मिल सकती हैं.

सड़क मार्ग

Source: bikeadvice

सड़क मार्ग से भूटान जाने वाले पर्यटकों को भारत-भूटान सीमा पर स्थित भूटानी शहर फ़ुनशोलिंग से टूरिस्ट परमिट लेना होगा. इसके लिए आपके पास पासपोर्ट या मतदाता पहचान पत्र और 2 पासपोर्ट साइज़ फ़ोटो होने अनिवार्य हैं. बेहतर होगा कि आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें. 7 दिन भूटान में घूमने के लिए आपको ट्रांसपोर्ट पर ज़्यादा से ज़्यादा 2000 रुपये ही ख़र्च करने होंगे.

कहां रुकें?

Source: travelbay

भूटान में आपको एक रात ठहरने के लिए अच्छा होटल 500 से 700 रुपये में मिल जाएगा. इसके अलावा आपको सस्ते लॉज या हॉस्टल भी आसानी से मिल जायेंगे.

क्या खाएं ?

Source: riikkablogspot

खाना: भूटान अपने अलग तरह के स्वादिष्ट व्यंजनों के लिए फ़ेमस है. यहां आपको अच्छा और भरपेट खाना 80 से 100 रुपये में मिल जायेगा. आप यहां के स्ट्रीट फ़ूड का मज़ा ले सकते हैं. देर रात सूजा बटर और थुप्पा का मज़ा भी ले सकते हैं. आपको यहां एक रात के खाने पर अधिकतम 150 रुपये ही ख़र्च करने पड़ेंगे.

Source: rumroadravings

ड्रिंक: अगर आप वाइन के शौक़ीन हैं, तो Takin Wine, Zum Zin Peach Wine और यहां की लोकल Arah Wine टेस्ट कर सकते हैं. अनलिमिटेड वाइन और विस्की के लिए आपको यहां मात्र 200 से लेकर 300 रुपये ही ख़र्च करने होंगे.

कहां-कहां घूमें?

पारो

Source: bookmytour

पारो भूटान का तीसरा बड़ा शहर एवं पर्यटन के लिहाज़ से नंबर एक शहर है, जो नदी किनारे बसा है. भूटान का एकमात्र हवाई अड्डा पारो में ही है. यदि आप पारो के दर्शनीय स्थलों का मजा लेना चाहते हैं, तो यहां कम से कम 3 दिन रुकना ज़रूरी है.

दोचूला पास

Source: wendyperrin

थिंपू से पुनाखा के रास्ते पर 25 किलोमीटर दूर दोचूला पास है. समुद्रतल से इस स्थान की ऊंचाई 3,020 मीटर है. यहां का बौद्ध मंदिर एवं 108 स्तूपों का समूह देखने लायक है.

हा वैली

Source: bookmytour

हा वैली पारो से 67 किलोमीटर दूर है. हा वैली कुदरत के दिलकश नज़ारों से भरपूर है. यहां पहुंचते ही ठंडी हवा के झोंके पर्यटकों का स्वागत करते हैं. यहां की पहाडि़यों में रंग-बिरंगी लहराती पताकाएं इस जगह की ख़ूबसूरती में चार-चांद लगाती हैं.

पुनाखा जोंग

Source: beitworld

पुनाखा जोंग भूटान का सबसे बड़ा और प्रमुख बौद्ध मंदिर है. इस बौद्ध मंदिर एवं मठ तक पर्यटक नदी पर पारंपरिक शैली में बने बेहद ख़ूबसूरत पुल से हो कर जाते हैं.

तकशांग लहखांग

Source: travelbay

टाइगर नेस्ट के नाम से मशहूर बौद्ध मठों का ये समूह पारो घाटी की सतह से लगभग 900 मीटर की ऊंचाई पर एक दुर्गम पहाड़ी के आख़िरी सिरे पर बना है. ये भूटान का राष्ट्रीय स्मारक भी है.

Source: travelbay

इसके अलावा भी भूटान में घूमने के लिए चेलेला पास, दंगसे लहखांग, रिनपंग जोंग,लहखांग नन्नोरी जैसी कई शानदार जगहें हैं. इन सभी जगहों को आप तीन से चार दिन में घूम लेंगे.

Source: tripoto.com