4 गेंदों में 92 रन? जी हां, यहां किसी क्रिकेट वीडियो गेम की बात नहीं हो रही है, बल्कि एक घरेलू क्रिकेट मैच में ये अजीबोगरीब मामला सामने आया है. अंपायर के फ़ैसलों के खिलाफ़ विरोध दर्ज कराते हुए बांग्लादेश की एक घरेलू टीम ने महज़ 1 ओवर में पूरा मैच ख़त्म कर दिया.

दरअसल ढाका सेकेंड डिविज़न क्रिकेट लीग में Axiom और Lalmatia टीमों के बीच मुकाबला खेला जा रहा था. पहले बल्लेबाज़ी करते हुए Lalmatia की टीम 14 ओवरों में महज़ 88 रनों पर सिमट गई, पर कई बल्लेबाज़ अंपायर के फ़ैसलों से नाखुश नज़र आए और उनके कई फ़ैसलों पर गंभीर सवाल भी उठे. असल में, ये सारा विवाद टॉस के समय ही शुरु हो चुका था.

Source: Sportskeeda

Lalmatia के जनरल सेक्रेटरी अदनान दिपोन का कहना था कि विवाद की शुरुआत टॉस के समय से ही शुरु हो चुकी थी. हमारी टीम के कप्तान को टॉस के दौरान सिक्का ही देखने नहीं दिया गया और विरोधी टीम के कप्तान ने हमें बल्लेबाज़ी का न्योता दे दिया. केवल टॉस ही नहीं, बल्कि बल्लेबाज़ी के दौरान भी अंपायर ने हमारी टीम के खिलाफ़ कई गलत फ़ैसले लिए, जिसके बाद हमने विरोध दर्ज कराने का फ़ैसला किया.

अंपायर के फ़ैसलों के खिलाफ़ प्रदर्शन करते हुए, Lalmatia के गेंदबाज़ सुजोन महमूद ने 80 एक्सट्रा दे डाले, जिसमें उन्होंने 65 रन वाइड और 15 रन नो बॉल में लुटा दिए. वहीं Axiom टीम का बल्लेबाज़ चार गेंदों में 12 रन बना कर नॉटआउट रहा.

Source: Sportskeeda

दिपोन ने भी माना कि सुजोन अपनी गेंदबाज़ी से अंपायर के गलत फ़ैसलों के खिलाफ़ प्रोटेस्ट दर्ज करा रहे थे. उन्होंने कहा कि हमारी टीम के खिलाड़ी काफ़ी युवा हैं. 17-18 साल के ये खिलाड़ी अन्याय बर्दाश्त नहीं कर सकते. यही कारण है कि उन्होंने केवल चार गेंदों में 92 रन देकर मैच खत्म कर डाला.

गौरतलब है कि एक ओवर में 92 रन अब फर्स्ट क्लास क्रिकेट में रिकॉर्ड है. इससे पहले ये रिकॉर्ड न्यूज़ीलैंड के क्रिकेटर बर्ट वेंस के नाम था. वेलिंगटन और केंटरबरी के बीच खेले गए इस मैच में बर्ट ने एक ओवर में ही 77 रन दे डाले थे.

Source: news.com