हरियाणा देश का एक ऐसा राज्य, जहां आज भी टैलेंट की कोई कमी नहीं है. हरियाणा ने देश को कई बड़े साइंटिस्ट, डॉक्टर्स, खिलाड़ी, नेता, अभिनेता दिए हैं. इन्हीं बड़ी हस्तियों में से एक हैं बॉलीवुड स्टार रणदीप हुड्डा.

Source: hindustantimes

रणदीप हुड्डा भले ही बॉलीवुड के बड़े स्टार हों, लेकिन दिल से आज भी एकदम देसी हैं. रणदीप जितने शानदार एक्टर हैं उतने अच्छे इंसान भी हैं.

Source: highlightsindia

रणदीप हुड्डा हरियाणा के रोहतक से हैं. पिता डॉक्टर तो मां सोशल वर्कर हैं. पढ़े-लिखे परिवार से हैं. पहले डीपीएस से पढ़ाई करने के बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया से मार्केटिंग में ग्रैजुएशन किया.

Source: magarticles

रणदीप आज भले ही बॉलीवुड के बड़े स्टार हों, लेकिन उनका हरियाणवी अवतार आज भी बिलकुल पहले जैसा ही है. बात-बात में उनका देसीपन निकल ही जाता है. उन्हें जब भी अपने लोगों के बीच जाने का मौका मिलता है अपनी हरयाणवी बोली में ही बात करते नज़र आते हैं.

Source: livemint.com

बॉलीवुड की चकाचौंध से अक्सर दूर रहने वाले रणदीप हुड्डा को स्पोर्ट्स बेहद पसंद है, उन्हें घुड़सवारी बेहद पसंद है. उनके फ़ार्म हाउस में भी कई घोड़े हैं. वो जब भी फ़्री होते हैं हरियाणा स्थित अपने फ़ार्म हाउस आ जाते हैं. अक्सर मीडिया और बॉलीवुड अवार्ड फ़ंक्शन से दूरी ही बनाकर रखते हैं.

Source: canindia.com

रणदीप वैसे तो सोशल मीडिया पर कम ही एक्टिव रहते हैं, लेकिन जब भी होते हैं लोगों को सामाजिक मुद्दों पर सन्देश देते नज़र आते हैं. महिला सशक्तिकरण, चाइल्ड मैरिज, महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार जैसे मामलों पर अपनी बात रखते हैं.

Source: mensxp.com

जाट आरक्षण के दौरान भी उन्होंने अपनी हरियाणवी बोली में लोगों को समझाने की अपील की थी. इस दौरान उन्होंने सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही अफ़वाहों से जाटों को आगाह करने का काम किया था.

Source: tribune.com

रणदीप ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई के दौरान उन्होंने टैक्सी चलाने से लेकर चायनीज़ रेस्टोरेंट में वेटर तक का काम किया है. खर्चा चलाने के लिए लोगों की कार तक धोई हैं.

Source: laughingcolours

साल 2000 में रणदीप भारत लौटे और एक एयरलाइन कंपनी के मार्केटिंग डिपार्टमेंट में काम करने लगे, साथ ही मॉडलिंग और थियेटर भी करने लगे थे. उन्होंने साल 2001 में मीरा नायर की फ़िल्म 'मॉनसून वेडिंग' से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद राम गोपाल वर्मा की फ़िल्म 'डी' में लीड में दिखाई दिए थे. फिर कुछ छोटी बड़ी फ़िल्मों में काम किया, लेकिन असल पहचान फ़िल्म 'वन्‍स अपॉन ए टाइम इन मुंबई' में निभाई गयी एक छोटी सी भूमिका से मिली.

Source: timesofindia

'साहिब बीवी और गैंगस्टर', 'जन्नत 2', 'रंगरसिया', 'हाइवे', 'सरबजीत', 'सुलतान' जैसी फ़िल्मों में शानदार एक्टिंग से उनकी गिनती बॉलीवुड के बड़े स्टार में होने लगी.