इटली में एक 20 साल की एक ब्रिटिश मॉडल, कोल आईलिंग के अपहरण का सनसनीखेज़ मामला सामने आया है. आरोप है कि जिस शख़्स ने उसका अपहरण किया था, वो उसे डार्क वेब पर मिडिल ईस्ट देशों में बेचना चाहता था.

इटली के जांचकर्ताओं के मुताबिक, आरोपी ने पहले ब्रिटिश मॉडल को काम के लिए ऑफ़र दिया, फिर उसे एक फ़ोटोशूट के लिए इटली बुलाया. 10 जुलाई को जब मॉडल शूट के लिए एक अपार्टमेंट पहुंची तो अपहरणकर्ता, ल्यूकाज़ पावेल हेर्बा ने अपने साथी के साथ मिल कर मॉडल का अपहरण कर लिया.

आरोपी ने मॉडल को एक खतरनाक ड्रग, केटामीन का इंजेक्शन लगाया, जिससे वह घंटों तक बेहोश हो गई. इसके बाद आरोपी ने उसे बंधक बना लिया.

इसके बाद हेर्बा और उसके साथी ने उसके सिर के नीचे एक तकिया लगाया और उसके मुंह को बंद कर दिया. फिर आरोपी उसे एक सूटकेस में डाल कर कार से 120 मील दूर ट्यूरिन के पास एक फ़ार्महाउस में ले गए, जहां वो 6 दिनों तक रहे. इस दौरान आरोपी ने उसका फ़ोटोशूट किया. ल्यूकाज़ मॉडल को अरब देशों में 300,000 पाउंड में बेचना चाहता था.

मॉडल ने अपनी जो आपबीती बताई वो बेहद खौफ़नाक है. कोल का कहना है कि उसे बताया गया था कि उसे मिडिल ईस्ट में बेचा जाएगा. अरब के लोग इन्हें खरीदते हैं और इन लड़कियों से बोर हो जाने पर अपने दोस्तों को दे देते हैं. अगर ऐसा न हो तो इन लड़कियों को शेर के सामने फ़ेंक दिया जाता था. ये सुन कर वो बुरी तरह डर गई थी.

पुलिस के मुताबिक पूछताछ में आरोपी के कंप्यूटर और फ़ोन की जांच की जा रही है. मामले की जांच इटली, पोलैंड और UK में भी चल रही है. पुलिस का कहना है कि ल्युकाज़ एक खतरनाक आदमी है और उसे दिन में सपने देखने और झूठ बोलने की आदत है.

हालांकि इस केस की सबसे दिलचस्प बात ये थी कि जिस महिला को ल्युकाज़ बेचने का मन बना चुका था, उसे उसने खुद ही छोड़ दिया. दरअसल कोल आईलिंग के पक्ष में यह बात गई कि वह एक बच्चे की मां थी. माना जा रहा है कि हेर्बा ब्लैक डेथ ग्रुप का सदस्य है और इस ग्रुप के पास कई ऐसी महिलाओं की कैटेगेरी हैं, जिन्हें वो नीलामी में शामिल नहीं करते. इसमें गर्भवती और बच्चों की मां होना भी शामिल है.

कोल के मुताबिक, इसी कारण से आरोपियों ने उसे छोड़ दिया. इसके अलावा अपहरणकर्ता ने ये भी कहा कि ग्रुप में एक ऐसा रसूखदार सदस्य था जो इस महिला की किडनैपिंग के खिलाफ़ था. हालांकि आईलिंग को छोड़ने के बदले में उससे पैसों की मांग भी की गई थी. हालांकि ये साफ़ है कि अपने बच्चे और रसूखदार शख़्स की बदौलत ही ये महिला वापस अपने देश सही सलामत आ पाई.

गौरतलब है कि जांच में ये भी सामने आया कि महिला अपने अपहरणकर्ता के साथ शॉपिंग के लिए भी गई थी. इस मामले में मॉडल का कहना था कि 'जब मुझे पता चला कि ये लोग मुझे एक बच्चे की मां होने की वजह से छोड़ने वाले हैं, तो वो जो भी मुझे कहते, मैं करती. मुझे पता था कि अगर मैंने भागने की कोशिश की होती तो ये लोग मुझे जान से मार देते, इसलिए मैं सिर्फ़ इन लोगों का कहा मानती रही.'

पुलिस इस मामले की जांच कर रही है कि जिस ब्लैक डेथ ग्रुप के ये लोग सदस्य बताए जा रहे हैं, वो असल में है भी या नहीं. वहीं महिला के वकील का भी कहना है कि 'ये केस सुनने में बेहद हैरतअंगेज़ जान पड़ता है, लेकिन सच्चाई यही है कि ये मॉडल केवल इसलिए बच पाई क्योंकि उसका अपहरण इस ग्रुप के उसूलों के खिलाफ़ था'.

Source: nytimes