दिवाली के दिन जब हर कोई जल्द से जल्द अपने घर पहुंचकर परिवार के साथ हर्षोल्लास के इस त्यौहार को मनाना चाहता है, वहीं जयपुर के एक होंडा डीलरशिप के एम्प्लॉईज़ को रात तक रुकना पड़ा लेकिन मजबूरी में नहीं, ख़ुशी ख़ुशी.

असल में, दिवाली की शाम तेरा साल का यश अपनी बहन रूपल के साथ जब वहां पहुंचा तो शोरूम बंद होने का टाइम हो गया था. लेकिन जब यश ने बताया कि वो अपनी बहन को भाई दूज के उपहार के रूप में एक स्कूटर गिफ़्ट करना चाहता है, तो इस बात ने उनके दिल को छू लिया. यश अपने सिक्कों से भरे बैग में पूरे 62000 रुपये ले कर आया था जो उन दोनों ने अपनी पॉकेट मनी से बचाये थे. जब कभी उसे कोई नोट मिलता था, वो उसे भी सिक्के में बदल के रख लेता था.

Source: KhojKhabarNews

इस होंडा डीलरशिप के GM, संतोष कुमार ने कहा, 'हमारे पास कई ऐसे कस्टमर्स आते हैं, जो पेमेंट का कुछ हिस्सा सिक्कों से करते हैं लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है कि पूरा का पूरा पेमेंट ही सिक्कों में है'.

दिवाली के बाद भाई-बहन के इस ख़ास दिन पर शोरूम देर रात तक खुला रहा और सिक्कों का मूल्य गिनने में दो घंटे से ऊपर का समय लगा. इसके बाद यश ने अपनी बहन को स्कूटर गिफ़्ट किया और इस अंदाज़ से उसके माता-पिता भी ख़ुशी से हैरान रह गए.