कुछ दिनों पहले पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी हुआ उसने न सिर्फ़ बंगाल के नेतृत्व पर सवाल उठाये, बल्कि देश की संप्रभुता की परिकल्पना पर भी प्रहार किया. इन सब हादसों के बीच बंगाल में एक ऐसी जगह भी है, जो पिछले 23 सालों से न सिर्फ़ देश की अखंडता और संप्रभुता को संभाले हुए है, बल्कि एकता की मिसाल को भी कायम किये हुए है.

पश्चिम बंगाल के घोरधारा में बनी सईद गुलाम चिश्ती की दरगाह एक ऐसी जगह है, जहां भगवान् शिव के महामंत्र और चिश्ती साहब की ग़ज़लों को एक समय पर बिना किसी टकराव के गाया जाता है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इस जगह पर नारायण चंद्र आचार्य ने 1986 में एक शिव मंदिर बनवाया था. शिव भक्त होने के साथ ही नारायण चंद्र, सईद गुलाम चिश्ती पर भी आस्था रखते थे. 1994 में चिश्ती साहब के देहांत के बाद उनकी आखिरी इच्छा के अनुसार नारायण चंद्र ने उनकी दरगाह मंदिर के प्रांगण में ही बनवाई.

Source: trendolizer

तब से ले कर आज तक बिना किसी विवाद के एक ही प्रांगण से लाउड स्पीकर पर भजन और क़व्वाली दोनों गायी जाती है.

Source: huffingtonpost