इज्जतें, शोहरतें, उलफ़तें, चाहतें सब कुछ इस दुनिया में रहता नहीं,

आज मैं हूं जहां कल कोई और था, ये भी एक दौर है वो भी एक दौरा था.

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना के आख़िरी बोल कुछ ऐसे ही थे. एक कार्यक्रम के दौरान राजेश खन्ना को उनके चाहने वालों ने आख़िरी बार ये डायलॉग बोलते हुए सुना था. शानदार कलाकार के साथ-साथ वो एक बेहतरीन इंसान भी थे. स्टारडम क्या होता है बॉलीवुड को ये राजेश खन्ना ने ही सिखाया था.

Source: amarujala

आज बॉलीवुड सुपरस्टार राजेश खन्ना का जन्मदिन है. इस मौके पर न सिर्फ़ उनके परिवार वाले, बल्कि उनके चाहने वाले भी उन्हें याद कर रहे हैं. राजेश खन्ना अपने चाहने वालों के दिलों में कुछ इस कदर बस गए थे कि आज भी लोग उन्हें याद करते हुए भावुक हो जाते हैं. सच कहूं तो बॉलीवुड में ऐसा स्टारडम पहले किसी भी स्टार को नहीं मिला था जो राजेश खन्ना को मिला था.

Source: thenational

पुष्पा के आंसुओं की भी फ़िक्र करने वाले राजेश खन्ना के लिए उस दौर में उनके फ़ैंस हर साल उनके जन्मदिन के मौके पर फूलों से भरे कई ट्रक उनके घर भेजा करते थे. आज फ़ैंस की जो भीड़ अमिताभ, शाहरुख़ और सलमान के घर के बाहर देखने को मिलती है. उस परंपरा को शुरू करने वाले पहले स्टार राजेश खन्ना ही थे.

Source: amarujala

राजेश खन्ना के लिए फ़ैंस के इसी प्यार के लिए आज उनके जन्मदिन के मौके पर बेटी ट्विंकल खन्ना ने एक तस्वीर शेयर की है. साथ ही लिखा कि 'जब मैं बच्ची थी तो मुझे लगता था कि हर साल उनके जन्मदिन के मौके पर हमारे घर के बाहर फूलों से भरे जो ट्रक आते हैं वो मेरे लिए आते हैं'.

राजेश खन्ना की न सिर्फ़ अदाकारी बेहतरीन थी, बल्कि उनका हर एक डायलॉग दिल को सुकून देने वाला होता था. वो अपने चाहने वालों को अपना अन्नदाता मानते थे. 18 जुलाई, 2012 को कैंसर के चलते उनका देहांत हो गया था, लेकिन वो आख़िरी दम तक इससे लड़ते रहे.

Source: indianexpress

साल 1966 में फ़िल्म 'आख़िरी ख़त' से अपना बॉलीवुड करियर शुरू करने वाले राजेश खन्ना ने कुल 160 से ज़्यादा फ़िल्मों में काम किया था. अपनी पहली फ़िल्म की तरह ही वो अपने चाहने वालों के लिए भी एक 'आख़िरी ख़त' छोड़ कर गए थे जिसे उनके परिजनों ने उनकी तेरहवीं के मौके पर पढ़ कर सुनाया.

जो कुछ इस तरह से था-

मेरे प्यारे भाईयो और दोस्तों...

नॉस्टेल्जिया में रहने की आदत नहीं है मुझे,

हमेशा भविष्य के बारे में ही सोचना पड़ता है,

जो दिन बीत गए, गुज़र गए उसका क्या सोचना,

लेकिन जब जाने पहचाने चेहरे, किसी अनजान सी महफ़िल में मिलते हैं तो यादें फिर दोबारा लौट आती हैं,

कभी-कभी मुझे ऐसा लगता है 100 साल पहले जब में 10 साल का था, तबसे ही हमारी मुलाक़ात है.

Source: ndtv.com