25 अगस्त, 2017 को अगले कुछ महीनों तक याद रखा जाएगा. इस दिन देश को दिखा अंधभक्तों का भयानक तांडव. इधर कोर्ट में डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत राम रहीम सिंह 'इंसान' उर्फ़ MSG को दो साध्वीयों के बलात्कार का दोषी पाया और उधर भक्तों ने हिंसा फैला दी. सोचने वाली बात तो ये है कि एक ही वक़्त पर अलग-अलग जगह हिंसा कैसे भड़क गई? देखते ही देखते स्थिति इतनी बेकाबू हो गई की पुलिसवालों को भी जान बचाकर भागना पड़ा.

Source: HT

अब एक-एक कर हर बात खुलकर सामने आ रही है. आर्मी ने राज्य को हिंसा के बारे में आगाह किया था, पर पुलिस और सुरक्षा बल कोई भी इस तरह के हमले के लिए तैयार नहीं था.

अब पंजाब पुलिस ने एक षड्यंत्र का खुलासा करने का दावा किया है. पंजाब पुलिस के अनुसार, उन्होंने पंजाब में हुई हिंसा से जुड़े 7 लोगों को हिरासत में लिया है, जिन्होंने हिंसा से जुड़ी अहम जानकारी दी है.

Source: HT

पुलिस के अनुसार, ये 7 लोग 'स्टेट-लेवल कमिटी' के सदस्य हैं और ये कमिटी इस साल के शुरूआत में ही बनाई गई थी. इस कमिटी का मुख्य उद्देश्य डेरा प्रमुख के खिलाफ़ आने वाले फ़ैसले का हिंसात्मक विरोध करना था. इस कमिटी का गठन डेरा सच्चा सौदा के पॉलिटिकल विंग ने किया था. इन 7 मेंबर्स ने हर ज़िले में 5 मेंबर की कमिटी बनाकर हिंसा का प्लैन बनाने का निर्देश दिया था.

हिंसा शुरू करने के लिए भक्तों को कोड वर्ड्स दिए गए थे. भठिंडा में मौजूद डेरा सच्चा सौदा के भक्तों के लिए कोड वर्ड था, 'टमाटर तोड़ दो'. वहीं संगरूर में भक्तों का कोड था, 'सब्जी तैयार है, वरताउनी है.', 'लेबर तैयार है, निहां पटनियां हान'.

Source: The Wire

25 अगस्त को हुए हिंसा के बाद पंजाब पुलिस ने 44 एफ़आईआर दर्ज की हैं. इस मामले में मेजर सिंह समेत 24 अन्य लोगों की गिरफ़्तारी भी हुई है. मेजर सिंह ने डेरा के उपद्रवियों को हथियार, पेट्रोल, पैसे आदि सप्लाई करवाए थे.

पंजाब के मुक्तसर में ही लगभग रोज़ इस हिंसा से जुड़ी मीटिंग हो रही थी. मुक्तसर से भी पुलिस ने कुछ गिरफ़्तारियां की. पुलिस ने ये भी बताया कि जो भक्त पंचकुला और सिरसा के लिए निकले थे, उन्हें ये बताया गया था कि वहां लंगर और कीर्तन का आयोजन किया गया है.

Source: Indian Express

सोचने वाली बात है कि इतनी बड़ी साज़िश हो रही थी पर पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी. हम पुलिस पर आरोप नहीं लगा रहे, लेकिन अगर इस तरह की सख्ती पहले होती, तो कई जानें बच सकती थी.

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत सिंह को कल 2 रेप Cases में 20 साल की सज़ा हो गई और कहीं कोई बड़ी वारदात नहीं हुई.

Source: Indian Express

Feature Image Source: Indian Express