भारत के सबसे सफ़लतम कप्तानों में शुमार एम.एस. धोनी के बाद कप्तानी का दायित्व कोहली पर आया और भले ही कोहली भारत की रन मशीन रहे हों लेकिन कप्तानी का प्रेशर कई बार बड़े खिलाड़ियों पर भी भारी पड़ता है और ये मास्टर ब्लास्टर सचिन से बेहतर कौन समझ सकता है, जिनके कप्तान बनते ही उनकी फ़ॉर्म में गिरावट आनी शुरू हो गई थी.

लेकिन अच्छी बात ये है कि विराट ने कप्तान के तौर पर तीनों ही फॉर्मेंट में अच्छा प्रदर्शन किया है और वो सही मायनों में एम.एस. धोनी के उत्तराधिकारी साबित हुए हैं.

Source: Hindustan Times

हालांकि, हाल ही में कोहली ने एक इंटरव्यू में चौंकाने वाला खुलासा भी किया है. विराट के मुताबिक, कई लोगों ने मेरी, धोनी के साथ दोस्ती तोड़ने की कोशिश की लेकिन माही और मेरी अंडरस्टैंडिग के चलते हमारे बीच कोई दरार नहीं आ पाई. ब्रेकफ़ास्ट विद चैंपियंस नाम के शो में उन्होंने गौरव कपूर को बताया कि कप्तानी में बदलाव के दौरान मीडिया में हमारे बीच विवाद की खबरें आईं, लेकिन हम दोनों की आपसी समझ के चलते हमारी दोस्ती में कभी दरार नहीं आई और पिछले कुछ सालों में हमारी दोस्ती बेहतर ही हुई है.

उन्होंने कहा कि ऐसा कई बार हुआ जब लोगों ने हम दोनों के बीच विवाद को हवा देने की कोशिश की गई लेकिन न ही मैंने इन सब बातों पर ध्यान दिया और न ही माही ने.

ये सभी जानते हैं कि धोनी मैदान टेंशन भरी परिस्थितियों में एकदम कूल और गंभीर रहते हैं लेकिन कोहली का कहना था कि 'धोनी जितने मैदान पर दिखते हैं, असल जीवन में उतने गंभीर नहीं है और वो मैदान पर भी कई बार हंसी मज़ाक करते रहते हैं. कोहली ने कहा कि मेरी और एमएस के बीच काफी अच्छी अंडरस्टैंडिंग है. उदाहरण के तौर पर, अगर हम दोनों रनिंग कर रहे हों और धोनी Two बोल दे तो मैं आंखें बंद कर बहुत तेजी से भागने लगता हूं. क्योंकि मैं उसकी जजमेंट को जानता हूं, और मुझे पता होता है कि अगर मैं तेज़ी से भागूंगा तो आराम से दो रन पूरे किए जा सकते हैं.'

Source: cloudfront

'मुझे नहीं लगता कि क्रिकेट में प्लानिंग के लिहाज से धोनी से ज़्यादा बेहतर क्रिकेट दिमाग किसी और के पास भी है. कभी-कभी मुझे अपनी खुद की अंतरात्मा को भी सुनने का मन करता है और मैं अपने हिसाब से फ़ैसले लेता हूं लेकिन मैं 10 में से 8 या 9 बार तो धोनी भाई से ही सलाह लेता हूं, वो आपको ऐसी चीज़ें बतातें हैं जो ज़्यादातर मौकों पर काम करती हैं. सो मैं बेहद भाग्यशाली हूं कि मुझे कप्तानी के शुरूआती दौर में धोनी का साथ मिल रहा है. कप्तानी में हुए बदलाव सभी खिलाड़ी भी खुश हैं. यहां तक की फ़ील्ड पर भी किसी भी खिलाड़ी को नहीं लगता है कि हमारा कप्तान बदला जा चुका है. हम अब भी बीच-बीच में चुटकुले सुनाते हैं और मैं लकी हूं कि मुझे धोनी से काफी कुछ सीखने का मौका मिल रहा है.'

Source: Hindustan Times