Cannes फ़िल्म फ़ेस्टिवल के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी फ़िल्म की स्क्रीनिंग से सैंकड़ों लोग उठकर चले गए. वजह है डायरेक्टर Lars von Trier की कमबैक फ़िल्म The House That Jack Built. इस फ़िल्म को जिस तरह से बनाया गया है, वो बहुत ही डरावना और घिनौना है. इसका कुछ हिस्सा देखने के बाद ही लोग थिएटर से बाहर निकलते दिखाई दिए.

The Hollywood Reporter की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 7 साल के बैन के बाद वापसी कर रहे डायरेक्टर Lars von Trier कि ये फ़िल्म इतनी ख़ौफनाक थी कि लोग इंटरवल से पहले ही बाहर निकलने लगे. इसकी कुछ फ़ोटोज़ भी सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही हैं.

Source: stuff
दर्शकों में मौजूद एक शख़्स ने ट्विटर पर लिखा, किसी भी फ़िल्म फ़ेस्टिवेल में मैंने ऐसा होते हुए नहीं देखा. 100 से भी ज़्यादा लोग इस फ़िल्म को छोड़कर बाहर जाते दिखे. इसमें बहुत ही बुरी तरह से बच्चों और महिलाओं को मारते-काटते दिखाया गया है. उन्होंने आगे लिखा कि एक महिला ने उनसे ये तक कह दिया कि ये बहुत ही घिनोना है.

दूसरे भी उनकी इस बात से सहमत नज़र आए.

Danish डायरेक्टर Lars von Trier को 2011 में हिटलर से सहानुभूती दिखाते हुए जोक्स शेयर करने के कारण बैन कर दिया गया था. हालांकि, 7 साल बाद वापसी करने वाले Lars von Trier का Cannes में तालियां बजाकर स्वागत किया गया था. लेकिन जब उनकी फ़िल्म दिखाई गई, तो दर्शकों की उम्मीदों पर पानी फिर गया.

Source: vulture

The House That Jack Built एक Psychological थ्रिलर है. इसमें हॉलीवुड स्टार Matt Dillon एक ऐसे सीरियल किलर का रोल निभा रहे हैं, जिसे औरतों और बच्चों को काटकर मारने का शौक है. इसका ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं:

Source: Hollywoodreporter

अब सवाल ये उठता है कि क्या ऐसी हिंसक फ़िल्में बनाई जानी चाहिए?