हवा, पानी और खाने की तरह ही आजकल इंटरनेट हमारी ज़िंदगी की अहम हिस्सा बन चुका है. इंटरनेट की इस अहमियत को अब सरकार और कोर्ट भी समझने लगे हैं, तभी सरकारी कामकाज में इसका जम कर इस्तेमाल हो रहा है.

हाल ही में पुणे की सिविल कोर्ट ने इंटरनेट का इस्तेमाल करते हुए Skype के ज़रिये मामले की सुनवाई कर फ़ैसला सुनाया. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक एक दंपति ने Hindu Marriage Act, 1955 और Section 13B के तहत तलाक़ के लिए अर्जी डाली थी. ख़बरों के मुताबिक लव मैरिज के बाद 30 जून 2016 से अलग रह रहा था कपल.

Source: wayerless

इसके बाद ये कपल अपने-अपने काम से सिंगापुर और लंदन चला गया. मामले की सुनवाई के वक़्त पति सिंगापुर से लौट आया, पर पत्नी लंदन में ही फंसी रही. आखिरकार कोर्ट ने स्थिति को भांपते हुए Skype के ज़रिये मामले की सुनवाई का फ़ैसला लिया. ये पहला ऐसा मौका था, जब पुणे की किसी कोर्ट ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिये मामले की सुनवाई की हो.

Feature Image Source: thewifi

Source: toi