पुणे की एक महिला अपने पति से इसलिए तलाक़ लेना चाहती है क्योंकि उसका इंजीनियर पति उस पर तरह-तरह के प्रोटोकॉल लगाता रहता है. मसलन रोटी 20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए, ब्रेकफ़ास्ट का मेन्यू एक दिन पहले भेजकर मंज़ूरी लेनी होगी, हर दिन अलग-अलग खाना बनेगा, प्रतिदिन आटा, चावल, दाल, तेल और साबुन कितना ख़र्च हुआ उसका हिसाब नोटबुक में लिखना होगा, फिर इन सभी डीटेल्स की एक्सेल शीट रिपोर्ट बनाकर ई-मेल भेजनी होगी. पति की मंज़ूरी के बाद ही खाना बनेगा. ज़रूरी बातचीत भी ईमेल से ही करनी होगी.

महिला ने अपने पति और ससुराल वालों पर न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी (जेएमएफसी) के समक्ष घरेलू हिंसा का मामला दर्ज किया है.

घोर कलयुग है भाई!

Source: dailyhunt

पुणे मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक़, इस महिला की शादी साल 2008 में हुई थी. पति पेशे से इंजीनियर है. जबकि महिला कम्प्यूटर साइंस से एमएससी हैं. महिला ने बताया कि शुरुआत में सब कुछ ठीक चलता रहा, मगर पति ने कुछ समय बाद अजीबो-गरीब हरकतें शुरू कर दीं. हर दिन कोई न कोई नया प्रोटोकॉल लगा दिया जाता था. हर रोज़ सुबह अपने पति को एक लिस्ट देती थी, जिसमें सुबह के नाश्ते का मेन्यु होता था. पति उनमें से कोई एक डिश अप्रूव करता था, फिर घर में उस दिन वही नाश्ता बनता था. रोटी का साइज़ 20 सेमी से ज़्यादा तो नहीं है उसकी जांच भी करता था.

Source: thepinsta

महिला ने बताया कि 'हर काम के लिए मुझे एक एक्सेल शीट भरनी होती थी. एक्सेल शीट में 3 कॉलम बने होते थे. पहला, पूरा किया गया काम, दूसरा, अधूरे काम के लिए जबकि तीसरा वो काम जो चल रहा हो. पति के निर्देशों के मुताबिक अगर कोई टॉस्क पूरा नहीं हो पता था तो शीट में उसका कारण भी लिखना पड़ता था. शाम को ऑफ़िस से घर आकर पति एक्सल शीट चेक करता था. घर में कितना आटा पिसाना है, कितना चावल रखना है, बाज़ार से कितनी सब्ज़ी ख़रीदनी है. इसकी भी एंट्री की जाती थी. पति से कुछ पूछना हो तो इसके लिए ई-मेल करनी होती थी.

Source: dailyhunt

छोटी-छोटी बात पर मारपीट और झगड़ा करने से तंग आकर मैं आत्महत्या करना चाहती थी, मगर बेटी को देखकर हिम्मत नहीं जुटा पाती थी. हिंसा सिर्फ़ मेरे साथ ही नहीं, बल्कि मेरी बेटी के साथ भी होती थी. एक बार तो मेरे पति किचन से चाकू लेकर बेटी के पीछे मारने के लिए भी दौड़ पड़े थे, लेकिन मैंने बीच बचाव कर बेटी को बचाया. पत्नी ने अपनी याचिका में पति की अजीब शर्तों से परेशान होने की बात कहते हुए तलाक की मांग की है.

Source: youthkiawaaz

पुणे मिरर ने इस सम्बन्ध में महिला के पति से बात करने की कोशिश की लेकिन उसने इस मामले में कुछ भी बोलने से साफ़ इंकार कर दिया.

इस महिला की वकील सुप्रिया डोंगरे ने बताया कि वो 2017 से पति से अलग रह रही हैं. दोनों पति-पत्नी पढ़े लिखे हैं. कोर्ट में इस मामले की सुनवाई अप्रैल में होगी.

Source: punemirror