सोमवार को बांद्रा के Taj Lands End होटल की 19वीं मंज़िल से कूदकर आत्महत्या करने वाले अर्जुन भारद्वाज से जुड़ा एक बड़ा खुलासा हुआ है. जांच में जुटे अधिकारियों का कहना है कि अर्जुन पहले भी दो बार अपनी जान देने की कोशिश कर चुका है.

पुलिस के मुताबिक, अर्जुन Narsee Monjee College Of Commerce And Economics कॉलेज से MBA कर रहा था. जांच में पुलिस को अर्जुन के कमरे से सात शॉर्ट नोट्स मिले हैं, जो उसने आत्महत्या करने से पहले लिखे थे. इनमें से आखिरी नोट में अर्जुन ने लिखा है कि 'अनुष्का तुम्हारा शुक्रिया, तुमने पहले भी मुझे दो बार बचाया था.' अपने एक नोट में अर्जुन अपनी ड्रग्स की आदत को इस कदम के लिए कसूरवार मान रहा है.

पुलिस अर्जुन के दो अन्य दोस्तों से इस बाबत पूछताछ कर वजह जानने की कोशिश कर रही है. उनके कहना है कि सुसाइड से एक रात पहले भी, अर्जुन काफ़ी डिप्रेस्ड था और लगातार कह रहा था कि 'वो एक दिन अपनी ज़िन्दगी ख़त्म कर लेगा, ड्रग्स ने उसकी ज़िन्दगी बर्बाद कर दी.'

आखिर के तीन घंटे

पुलिस के मुताबिक, अर्जुन दोपहर 3 बजे होटल में दाखिल हुआ. वहां आकर उसने सबसे पहले नोट्स लिखे, फिर वाइन पी और पास्ता खाया. इसके बाद वो फ़ेसबुक पर लाइव वीडियो बनाने लगा.

वीडियो बनाने के बाद उसने अपना फ़ोन किनारे रखा और कांच तोड़ने लगा. कांच तोड़ने के लिए अर्जुन ने कुर्सी का इस्तेमाल किया. आवाज़ सुन कर होटल के कर्मचारियों ने अर्जुन के कमरे को मास्टर चाबी की मदद से खोलने की कोशिश की. पर अर्जुन ने उसकी चटकनी लगा रखा थी.

कुछ सेकंड से अर्जुन को बचाने से चूक गए होटल कर्मचारी

कांच तोड़ने के बाद अर्जुन खिड़की पर चढ़ गया. होटल स्टाफ़ ने उसे रोकने की कोशिश भी की. एक कर्मचारी ने अर्जुन को ऐसा न करने को भी कहा, पर जब तक वो अर्जुन के पास पहुंचते, वो पहले ही कूद चुका था.

जांच और कार्यवाही के बाद पुलिस ने अर्जुन के शव को उसके परिवार को सौंप दिया. अर्जन के परिवार ने घाटकोपर के शमशान घाट में उसका अंतिम संस्कार किया.

हर पक्ष की जांच करने के बाद पुलिस का कहना है कि अर्जुन कई दिनों से तनाव में था, जिसकी वजह से उसने आत्महत्या का रास्ता अपनाया.

Source: midday