अगर खेल जगत की बात की जाए, तो Cricket को लगभग हर देश में खेला जाता है. जब महान खिलाड़ियों की बात होती है, तो ऐसे बहुत से धुरंधर खिलाड़ी हुए हैं, जिन्होनें Cricket में अपनी छाप छोड़ी है. उनके नाम से खिलाड़ियों के खेल को जाना जाता है. ऐसे बहुत से महान Cricketers हैं, जिनके नाम से Cups और Trophies को जाना जाता है.

तो जानते हैं ऐसी कुछ Trophies के बारे में, जो Cricketers के नाम से बनी.

Chappell–Hadlee Trophy

ये एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट सीरीज़ है. ये सीरीज़ न्यूज़ीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहली बार खेली गयी थी. इस ट्रॉफ़ी का नाम ऑस्ट्रेलिया के Chappell ब्रदर्स (Ian, Dayle, Trevor) और न्यूज़ीलैंड के Walter Hadlee के नाम पर रखा गया था.

Warne–Muralitharan Trophy

इस ट्रॉफ़ी का नाम टेस्ट Cricket में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले श्रीलंका के Muttiah Muralitharan और ऑस्ट्रेलिया के Shane Warne के नाम पर रखा गया था. 2007-08 में खेली गयी Australia-Sri Lanka टेस्ट सीरीज़ के दौरान पहली बार इसे जीतने वाली टीम को दिया गया था.

Frank Worrell Trophy

ये एक ऐसी ट्रॉफ़ी है, जिसे काफ़ी महत्वपूर्ण माना जाता है. इस ट्रॉफ़ी का नाम वेस्टइंडीज़ के पूर्व कप्तान Sir Frank Worrell के नाम पर रखा गया था. 1960-61 में इस ट्रॉफ़ी को पहली बार जीतने वाली टीम को दिया गया था. ये सीरीज़ Australia और West Indies के बीच खेली गयी थी.

Border–Gavaskar Trophy

ये ट्रॉफ़ी एक टेस्ट सीरीज में दी जाती है, जो India और Australia के बीच पहली बार खेली गयी थी. इस ट्रॉफ़ी का नाम भारत के पूर्व क्रिकेटर Sunil Gavaskar और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर Allan Border के नाम पर रखा गया था. दोनों ही खिलाड़ियों ने टेस्ट Cricket में 10 हज़ार रन पूरे किये थे. दोनों ने ही Cricket की दुनिया में नाम कमाया है.

Pataudi Trophy

ये ट्रॉफ़ी Jocelyn Burton के द्वारा बनाई गयी थी और इसका नाम Pataudi क्रिकेटिंग फ़ैमली के नाम पर रखा गया था. इस ट्रॉफ़ी का आयोजन अभी इंग्लैंड कर रहा है. पहली बार ये सीरीज़ England और India के बीच 2007 में खेली गयी थी. अभी तक इस ट्रॉफ़ी को इंग्लैंड ने दो बार और भारत ने एक बार कब्ज़ा किया है.

Basil D’Oliveira

इस ट्रॉफ़ी का नाम दक्षिण अफ्रीका में जन्में इंग्लिश टेस्ट प्लेयर Basil D Oliveria के नाम पर रखा गया था. पहली बार इस सीरीज़ को England और South Africa के खिलाफ़ 1968 में खेला गया था.

Duleep Trophy

ये ट्रॉफ़ी एक घरेलू ट्रॉफ़ी है, जिसे सिर्फ भारत में ही खेला जाता है. और इसका नाम Kumar Sri duleepsinhji के नाम पर रका गया था. Dullep एक माने हुए खिलाड़ी थे.

Ranji Trophy

ये ट्रॉफ़ी भी भारत में खेली जाती है. इसे घरेलू स्तर पर बहुत ही ज़्यादा पसंद किया जाता है और इसका नाम महान क्रिकेटर Ranjitsinhji के नाम पर रखा गया था. 27 टीमों के बीच इस ट्रॉफी का आयोजन किया जाता है.