दुनिया के कई हिस्सों में अलग-अलग नामों से पाया जाने वाला गांजा तमाम तरह की धारणाओं का शिकार रहा है. भारत में ग़ैर-क़ानूनी होने के बावजूद इसका कई जगह इस्तेमाल होता है. वहीं अमेरिका में इसे क़ानूनी करने की मांग काफ़ी सालों से उठती रही है.

गांजा के समर्थक मानते हैं कि इससे डिप्रेशन, पार्किंसन जैसी कई बीमारियों से लड़ने में राहत मिलती है. कई लोग इसका इस्तेमाल थेरेपी के रूप में भी करते हैं. इसी का परिणाम है कि अमेरिका के कई क्षेत्रों में इसे मेडिकल तौर पर लीगल कर दिया गया है. मगर एक नई रिपोर्ट इसके मेडिकल फायदों को झुठला रही है.

Source: media-cache

एक फेडरल ए़डवाइजरी कमेटी के मुताबिक़, गांजे से कई लोगों को नींद आने में मदद मिल सकती है और कई बार ये दर्द को कम करने में भी राहत दे सकता है. लेकिन इसके अलावा इस पौधे के बाकी मेडिकल फायदों को इस कमेटी ने सिरे से नकार दिया है.

रिसर्च के मुताबिक, इस बात के कोई प्रमाण सामने नहीं आए हैं कि गांजे से एपीलेप्सी नामक बीमारी को ठीक करने में मदद मिलती है. गौरतलब है कि दुनिया भर में गांजे को एपीलेप्सी के उपचार के लिए मेडिकल तौर पर लिया जाता है.

रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि इस बात के भी पुख्ता प्रमाण नहीं हैं कि गांजे से कैंसर या पार्किंसन बीमारी की उपचार किया जा सकता है और न ही इससे गंदी आदतों को छुड़ाने में किसी तरह की मदद मिलती है. इन विशेषज्ञों की माने तो गांजे के मेडिकल फायदों को लेकर देश और दुनिया को एक बार फिर नए सिरे से सोचने की ज़रूरत है.

Source: whicdn

इस रिपोर्ट को नेशनल एके़डेमिक्स ऑफ साइंस, इंजीनियरिंग एंड मेडिसिन ने जारी किया है और इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि नीतियां बनाने वालों को, डॉक्टरों को और मरीजों को भी पुख्ता प्रमाण सामने आने पर ही गांजे के मेडिकल फायदों को लेकर अपनी राय बनानी चाहिए. हालांकि, रिपोर्ट में इस बात के प्रमाण सामने आए हैं कि गांजे से सिट्जोफ्रेनिया जैसी मानसिक बीमारी हो सकती है, खासकर जो लोग इसका रेग्युलर इस्तेमाल करते हैं.

Source: kinja

इस बात के भी कोई प्रमाण सामने नहीं आए हैं कि इसके इस्तेमाल से पढ़ाई या किसी तरह की सोशल लाइफ़ पर कोई फर्क पड़ता है और न ही गांजा पीने से हार्ट अटैक जैसी घटनाएं हो सकती है. मगर कुछ प्रमाणों के मुताबिक़ गांजा पीने से लोग शराब और तंबाकू जैसे नशों की तरफ मुड़ सकते हैं.

हाल ही में आई इस रिसर्च ने कई ऐसे दावे किए हैं जिससे गांजे की अहमियतों और उसके मेडिकल फायदों पर सवाल खड़े हुए हैं. हालांकि ये भी सच है कि अमेरिका में कई दशकों से लोगों को इस पौधे से दूरी बनाने के लिए कई तरह की प्रोपगेैंडा रिपोर्ट्स भी सामने आती रही हैं. वॉर अगेंस्ट ड्रग्स की आड़ में गांजे पर प्रतिबंध नया नहीं है और ये देखना दिलचस्प होगा कि लोग इस रिपोर्ट पर किस प्रकार की प्रतिक्रिया देते हैं.

Source: Dailymail