अमेरिका समेत दुनियाभर के कई देशों में आज हैलोवीन डे मनाया जा रहा है. अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, मेक्सिको व कई देशों के लोग मेकअप और परिधानों के साथ 'भूत' बनकर घूमते हैं. अमेरिका में फ़सल के मौसम में किसानों की मान्यता थी कि बुरी आत्माएं धरती पर आकर उनकी फ़सल को नुकसान पहुंचा सकती हैं, इसलिए उन्हें डराकर भगाने के लिए वे खुद डरावना रूप धर लेते थे. मगर आधुनिक युग में ये एक मौज-मस्ती और छुट्टी मनाने का अच्छा तरीका बन गया है. गुड़गांव में भी अमेरिका के इस मशहूर फ़ेस्टिवल से प्रेरित होते हुए लोगों ने स्वच्छता को प्रमोट करने का अद्भुत तरीका ढूंढ निकाला.

गुड़गांव के सेक्टर 31 मार्केट में कुछ लोग इकट्ठे हुए और इसके बाद स्वच्छ भारत और हैलोवीन का अजीबोगरीब कॉम्बिनेशन देखने को मिला. दरअसल, हैलोवीन की डरावनी ड्रेसेस पहनकर ये छात्र झाड़ू उठाकर, मार्केट की सफ़ाई करने लगे. शहर का एक एनजीओ ग्रुप 'ज़िक्र' इस अनोखे आईडिया के साथ सामने आया था.

इस ग्रुप के को-फ़ाउंडर राहिल महाजन ने बताया 'हम इस प्रकार के स्वच्छता अभियान को पिछले एक साल से कर रहे हैं. हम कोशिश करते हैं उन जगहों पर जाने की, जिन्हें लगातार सफ़ाई की ज़रूरत है. चूंकि इस बार हैलोवीन का हफ़्ता भी नज़दीक था, तो हमने अपने इस अभियान के साथ कुछ प्रयोग करने की ठानी.'

स्वच्छ भारत और हैलोवीन के इस अनोखे प्रोजेक्ट के तहत छात्रों ने सेक्टर 31 का मेन मार्केट साफ़ किया. इसके बाद हुड्डा मार्केट में भी जाकर एक घंटे से ज़्यादा समय तक सफ़ाई की. मार्केट के पास रहने वाले एक शख़्स ने बताया 'पहले हमें लगा कि ये लोग किसी स्ट्रीट प्ले ग्रुप का हिस्सा था लेकिन बाद में जब हमने देखा कि वो मार्केट साफ़ कर रहे थे, तो देखकर बेहद खुशी हुई और ऐसी वेशभूषा में सफ़ाई तो हमने पहले कभी नहीं देखी थी.

इस ग्रुप की को-फ़ाउंडर सान्या अग्रवाल का कहना था कि हमें लगा कि अगर हम इस अभियान में हैलोवीन कॉस्ट्यूम्स को भी शामिल कर लेते हैं तो न केवल ये दिलचस्प होगा, बल्कि कई लोगों का ध्यान इससे खींचा जा सकता है, जिससे कि कम से कम वे साफ़-फ़ाई को लेकर प्रेरित हो सकते हैं.

वॉलंटियर्स ने इसके बाद स्थानीय दुकानदारों से भी बातचीत की. उन्होंने लोगों से बातचीत के दौरान वेस्ट मैनेजमेंट की महत्वता पर ज़ोर दिया. उन्होंने कहा कि हमने आज मार्केट क्लीन किया है लेकिन अगर लोग सफ़ाई पर ध्यान नहीं देंगे तो ये एक सप्ताह में फिर बेतरतीब तरीके से गंदा हो जाएगा. ऐसे में लोगों को साफ़-सफ़ाई को लेकर हमेशा प्रेरित रहना चाहिए.

Source: TOI