मुग़ल शासकों में अकबर का नाम बड़े सम्मान से लिया जाता है. वजह ये है कि अकबर ने सबके हित के लिए काम किया. अकबर ने अपने शासनकाल में न जाने कितने योद्धाओं को रणभूमि में मात दी. हिन्दू, मुस्लिम और कई समुदायों से युद्ध में अकबर विजयी ही रहा. पर एक ऐसा योद्धा भी था, जिसने बादशाह अकबर को युद्धभूमि में हार का स्वाद चखाया था. अंतिम हिन्दू शासक हेमू विक्रमादित्य ने अकबर को उसकी विशाल सेना के साथ हराकर अपना नाम इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखवा लिया.

Source: emaze

इतिहासकारों के पास हेमू के वंश के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं है, पर इतना तो ज़रूर था कि हेमू का उदय बहुत ही सामान्य परिवार से हुआ था. उनका बचपन दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के एक शहर रेवारी में बिता था. अपने परिवार की आर्थिक सहायता के लिए हेमू ने दस्ताकर के तौर पर काम करना शुरू कर दिया. पर सन 1545 में शेर शाह सूरी की मृत्यु के बाद उनके बेटे इस्लाम शाह गद्दी पर बैठे और हेमू को बाज़ार का नियंत्रक बना दिया. धीरे-धीरे अपने काम की बदौलत हेमू मुख्य सलाहकार के पद तक पहुंच गए.

Source: Wikipedia

फिर इस्लाम शाह की मौत के बाद आदिल शाह के हाथों में शासन की बागडोर चली गई. हेमू आदिल के मुख्यमंत्री बन गए. इसी दौरान हेमू ने अफ़गानी विद्रोहियों का सामना डट कर किया और कई युद्ध लड़े. लगभग 22 युद्धों में उनकी जीत हुई. मुगलों से भी सूरी शासकों का पुराना बैर था. हुमायूं के नेतृत्व में एक सेना ने आदिल शाह के साले सिकंदर शाह सूरी को हराया था. जब 1555 में हुमायूं की मौत हुई, तो हेमू ने इसे एक अच्छा मौका मान कर मुगलों पर हमला बोल दिया. हेमू ने एक सेना को बस मार्च पर लगा दिया और मुग़लों को बयाना से लेकर आगरा तक ख़ूब भगाया. आगरा में मुगलों के गवर्नर ने लड़ाई लड़ने के बजाय वहां से भाग जाना ठीक समझा. हेमू ने अपनी जीत तब मानी, जब उन्होंने मुग़ल सेना को तुगलकाबाद में हराया. ये लड़ाई उन्होंने तरदी बेग खान को हराकर जीती थी. फिर अगले दिन हेमू ने दिल्ली पर हमला बोल दिया और जीत भी हासिल की. इसी जीत से उन्हें विक्रमादित्य की उपाधि मिल गई.

Source: Blog

इन पराजयों से आहत होकर अकबर अपने दस हज़ार सैनिकों के साथ निकल पड़ा था. 5 नवम्बर 1556 को हेमू की सेना और अकबर की सेना का आमना-सामना हुआ, ये युद्ध पानीपत में हुआ था. अकबर की सेना ने हेमू की कमज़ोर सेना को काफ़ी घायल कर दिया. पर फिर भी हेमू सब पर भारी पड़ रहे थे. जब वो जीत के बहुत करीब थे, तभी एक तीर आकर उनकी दायीं आंख में फंस गया और उनकी मौत हो गई. तब अकबर के रक्षक बैरम खान ने हेमू का सिर काटने के लिए कहा, तो अकबर ने मृत आदमी का सिर कलम करने से मना कर दिया. इसलिए बैरम खान ने हेमू का सिर काट कर काबुल भिजवा दिया.

Source: Wordpress

ये थी कहानी उस बहादुर योद्धा की, जो जंग तो जीत गया, पर किस्मत से हार गया. हेमू की बहादुरी और उनका मनोबल ही उन्हें सम्राट बनता है.