भारत के कई हिस्सों में आज भी महिलाएं दोयम दर्जे का जीवन बिताने को मजबूर हैं. बराबरी की बात तो दूर, इन महिलाओं पर होने वाले अपराधों के लिए भी इन्हें ही दोषी माना जाता है. मध्य प्रदेश के अलीराजपुर में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां एक आदिवासी महिला को अपने साथ बलात्कार हो जाने के बावजूद भी अपने पति के गुस्से का शिकार होना पड़ा.

पुलिस के मुताबिक, बादी झीरी नाम के गांव में 31 जनवरी की रात पीड़ित महिला अपने घर के पास ही स्थित सरकारी स्कूल में सो रही थी और अंधेरे का फायदा उठाते हुए कालू सिंह नाम के एक शख्स ने महिला के साथ इस घिनौनी हरकत को अंजाम दिया.

35 साल की इस महिला के पति भुरु को जब इस बारे में पता चला, तो बजाए अपनी पत्नी के साथ हमदर्दी जताने के, उसने उसे पीटना ही शुरु कर दिया. इस शख्स का सिरफिरापन यही खत्म नहीं हुआ बल्कि गुस्से की आग में जलते भुरु ने अपनी बीवी के बाल तक काट डाले. गौरतलब है कि भुरू घटना के समय पड़ोसी राज्य गुजरात में काम करने गया था. 

Source: assettype

पीड़ित महिला ने दोनों घटनाओं की शिकायत उदयगढ़ पुलिस स्टेशन में करवाई थी. पुलिस ने भी तुरंत हरकत में आते हुए दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए कोर्ट के सामने पेशकश किया था, जहां आरोपी कालू को जेल भेज दिया गया है वहीं पेशे से मज़दूर भुरू को जमानत पर रिहा कर दिया गया है.