21वीं सदी में भारत के लोगों का लाफ़स्टाइल कैसा है, ये पूछा जाए तो जानते हैं क्या जवाब मिलेगा? इसके जवाब में जो तस्वीर उभरकर सामने आएगी वो कुछ ऐसी होगी- लोगों के एक हाथ में स्मार्टफोन और दूसरे हाथ में झाड़-फूंक का सामान. अब आप कहेंगे कि कहीं हमारा दिमाग़ तो ख़राब नहीं हो गया? मगर इस ख़बर को पढ़कर आप भी यही कहेंगे.

Source: bdtimes365

दरअसल, यूपी के बुलंदशहर से अंधविश्वास की पराकाष्ठा देखने को मिली है. यहां एक 35 वर्षीय महिला को अपना कीमती जीवन अपने पति के अंधविश्वास के कारण खोना पड़ा. देवेंद्री नाम की इस महिला को जंगल में सांप ने काट लिया था. वो रोज़ाना की तरह जंगल से लकड़ियां लेने गई थी, देवेंद्री को पता था कि सांप ने उसे डस लिया है.

Source: Topyaps

वो तब तक ठीक थी और घर भी वापस आ गई. जब महिला ने ये बात अपने पति को बताई, तो वो डॉक्टर को न बुलाकर एक सपेरे को ले आया. इस सपेरे का दावा था कि वो सांप द्वारा डसे कई लोगों को ठीक कर चुका है. फिर उसने महिला के पति को देवेंद्री को पूरी तरह से गोबर से ढकने को कहा. उसके पति ने बिना सवाल किए ऐसा ही किया.

Source: pinterest

सपेरे ने कुछ मंत्र पढ़े और बीन बजाने लगा. कुछ देर बाद जब सपेरे के कहने पर पति ने जैसे ही महिला के शरीर से गोबर हटाया, तो देखा कि उसकी पत्नी का दम घुट गया है और उसका निधन हो चुका है. हैरानी की बात तो ये है कि ये सब होता रहा और आस-पड़ोस के लोग तमाशबीन बने देखते रहे. किसी ने भी उसे ऐसा करने से नहीं रोका.

Source: Topyaps

अगर देवेंद्री का पति उसकी झाड़-फूंक कराने की जगह, वक़्त रहते अस्पताल ले गया होता तो शायद वो आज ज़िंदा होती. ख़ुद को इक्कीसवीं सदी का भारत कहने से पहले हमें इन सामाजिक कुरीतियों को हटाना पड़ेगा.

Source: Topyaps