गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न ठाकुर मर्डर केस में पकड़ा गया बस कंडक्टर, हरियाणा पुलिस के अफ़सरों के खिलाफ केस दर्ज कराने की तैयारी में है. बस कंडक्टर अशोक के परिवार वालों का आरोप है कि उसे बेवजह फ़ंसाया गया है. सीबीआई ने इस केस में 11वीं में पढ़ने वाले 16 साल के एक लड़के को पकड़ा है.

अशोक के पिता अमीरचंद ने कहा 'अब यह पूरी तरह साफ़ हो गया है कि मेरे बेटे अशोक को बलि का बकरा बनाया गया था. हमने गुड़गांव पुलिस के उन एसआईटी अफ़सरों के खिलाफ केस दर्ज कराने का फ़ैसला किया है, जिन्होंने अशोक को फ़ंसाया. उसे टॉर्चर किया गया. यहां तक की ड्रग्स भी दिया, ताकि वो मीडिया के सामने हत्या की बात मान ले.'

अमीरचंद ने कहा, 'गांव वाले हमारे साथ हैं और वो सब अशोक के लिए इंसाफ और बेपरवाह पुलिस अफ़सरों के खिलाफ़ कार्रवाई चाहते हैं.'वहीं सीबीआई ने बीते बुधवार को बताया कि प्रद्युम्न की हत्या के मामले में 11वीं के स्टूडेंट को गिरफ़्तार किया गया है. सीबीआई के मुताबिक, आरोपी स्टूडेंट ने पीटीएम और एग्ज़ाम टलवाने के लिए मर्डर किया था.

प्रद्युम्न के परिवार का कहना था, 'हमें शक है कि इस मामले में कोई गहरी साजिश थी और पिंटो फ़ैमिली भी इसका हिस्सा थी. आरोपी स्टूडेंट को फांसी की सजा मिलनी चाहिए'. आरोपी स्टूडेंट को जुवेनाइल कोर्ट ने 3 दिन की रिमांड पर सीबीआई को सौंप दिया है.

सीबीआई ने उस थ्योरी को नकारा नहीं है, जिसमें कंडक्टर को आरोपी बनाया गया था. उसने कंडक्टर को क्लीन चिट नहीं दी है. सीबीआई का कहना है कि उसने साइंटिफिक एविडेंस के आधार पर आरोपी स्टूडेंट को गिरफ़्तार किया है.

गौरतलब है कि 2 महीने पहले 8 सितंबर को गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था. बच्चे की बॉडी टॉयलेट में मिली थी. इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था. आरोपी अशोक 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था.

Source: Hindustan Times