1974 बैच की IAS ऑफिसर, श्रवरी गोखले मुम्बई की पहली महिला कलेक्टर थी. 3 साल तक कैंसर से लड़ने के बाद आख़िरकार उनकी मृत्यु 15 जनवरी 2016 को हुई, पर अपनी मौत से पहले ही श्रवरी गोखले ऐसा काम कर गईं कि सालों तक उन्हें याद किया जायेगा.

दरअसल अपनी मृत्यु से पहले श्रवरी ने अपना घर 'सेंटर फॉर ब्रेन रिसर्च' के लिए दान कर दिया था. 36 सालों तक विभिन्न पदों पर अपनी सेवा देने के बाद श्रवरी गोखले एनवायरनमेंटअल चीफ़ सेक्रेटरी के पद से रिटायर हुई थीं.

'मुम्बई मिरर' की ख़बर के मुताबिक उनका घर मुम्बई के पॉश इलाके अंधेरी में स्थित आशीर्वाद को-ऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी में है. शादी से तौबा कर चुकी श्रवरी चाहती थीं कि उनका धन देश के काम आ सके. उनके परिवार के सदस्यों में उनका एक भाई है, जो अमेरिका में रहता है.

'सेंटर फॉर ब्रेन रिसर्च' को अपना घर दान में देने के 6 दिन बाद उनकी मृत्यु हो गई थी.