आईपीएल-11 इसलिए भी हमेशा याद रखा जायेगा, क्योंकि इस सीज़न में आईपीएल के सबसे ज़्यादा रन बने हैं. हर साल की तरह इस साल भी आईपीएल में कुछ खिलाड़ियों ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से साबित कर दिया कि आईपीएल को यूं ही दुनिया की सबसे लोकप्रिय टी-20 लीग नहीं कहा जाता.

आइये जानते हैं वो कौन से ऐसे 10 खिलाड़ी रहे, जिनके शानदार प्रदर्शन ने आईपीएल-11 को यादगार बना दिया है.

1. केन विलियमसन (कप्तान/बल्लेबाज़)

Source: cricketcountry

इस साल आईपीएल में 'कैप्टन केन' के नाम से मशहूर हुए विलियमसन को डेविड वॉर्नर की जगह सनराइज़र्स हैदराबाद का कप्तान गया था. विलियमसन की शानदार कप्तानी की बदौलत टीम फ़ाइनल खेली. लेकिन टीम के अच्छे प्रदर्शन के मुख़्य हीरो विलियमसन ख़ुद रहे. इस सीज़न उन्होंने सबसे ज़्यादा 735 रन बनाकर ओरेंज कैप हासिल की. इस दौरान केन ने 8 अर्द्धशतक लगाने के साथ ही 140 से ज़्यादा के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी की.

2. राशिद ख़ान (बॉलर)

Source: indianexpress

राशिद को क्रिकेट का उभरता सितारा कहने में कोई गुरेज़ नहीं. आईपीएल-11 में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए अगर कोई खिलाड़ी सबसे अहम रहा, तो वो हैं राशिद खान. राशिद ने अपनी फ़िरकी के दम पर अच्छे से अच्छे बल्लेबाज़ को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था. वो इस सीज़न में खेले गए 17 मैचों में 21 विकेट लेकर सबसे ज़्यादा विकेट लेने वालों में संयुक्त रूप से दूसरे नंबर पर रहे. जबकि केकेआर के ख़िलाफ़ 10 बॉल में ताबड़तोड़ 34 रन, जबकि 4 ओवर में 19 रन देकर 3 विकेट्स, 2 ज़बरदस्त कैच और एक खिलाड़ी को रन आउट कर बेहतरीन प्रदर्शन किया.

3. एमएस धोनी (कप्तान/विकेटकीपर बल्लेबाज़)

Source: s3

आईपीएल में अब तक शायद ही कोई ऐसा सीज़न रहा हो, जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान एमएस धोनी की चर्चा ना हो. धोनी हर साल अपनी शानदार कप्तानी, ज़बरदस्त बल्लेबाज़ी और चतुर विकेटकीपिंग की वजह से सुर्ख़ियां बटोरते हैं. इस सीज़न में भी कुछ ऐसा ही हुआ. जिस टीम को क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने बुज़ुर्गों की टीम कहकर टॉप 4 में पहुंचने के क़ाबिल भी नहीं समझा था. उस टीम ने धोनी की लाजवाब कप्तानी के दम पर तीसरी बार आईपीएल ख़िताब अपने नाम किया. धोनी ने 75.83 की शानदार औसत के साथ 15 मैचों में 455 रन बनाए. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 150.66 रहा.

4. शेन वॉटसन (बैटिंग ऑलराउंडर)

Source: thecricketlounge

शेन वॉटसन द्वारा आईपीएल-11 के फ़ाइनल में खेली गई नाबाद 117 रन की शानदार पारी की बदौलत ही चेन्नई ने तीसरी बार आईपीएल ट्रॉफ़ी पर कब्ज़ा किया. वॉटसन इस सीज़न में 2 शतक वाले इकलौते बल्लेबाज़ थे. दो शतकों की बदौलत उन्होंने 15 मैचों में कुल 555 रन बनाए और 6 उपयोगी विकेट्स भी झटके.

5. एंड्रयू टाय (बॉलर)

Source: iplt20

किंग्स इलेवन पंजाब के तेज़ गेंदबाज़ एंड्रयू टाय इस सीजन के टॉप बॉलर रहे. उन्होंने शानदार गेंदबाज़ी करते हुए 14 मैचों में 24 विकेट झटकर पर्पल कैप पर कब्ज़ा जमाया. पूरे टूर्नामेंट के दौरान उन्होंने कई बार अकेले दम पर टीम को जीत दिलाई.

6. ऋषभ पंत (विकेटकीपर बल्लेबाज़)

Source: jansatta

दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए भले ही आईपीएल-11 अच्छा न रहा हो. लेकिन इस टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज़ ऋषभ पंत के लिए पूरा टूर्नामेंट बेहद ख़ास रहा. ऋषभ को हैदराबाद के ख़िलाफ़ खेली गई 128 रन की ताबड़तोड़ पारी के लिए हमेशा याद किया जायेगा. जबकि रन बनाने के मामले में भी पंत दूसरे नंबर पर रहे. उन्होंने 14 मैच में कुल 684 रन बनाए. ऋषभ आईपीएल इतिहास के पहले ऐसे विकेटकीपर बल्लेबाज़ हैं, जिसने 680 से अधिक रन बनाये हैं. पंत ने इमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ ईयर अवॉर्ड और स्टाइलिश प्लेयर ऑफ़ द सीज़न अवॉर्ड अपने नाम किया.

7. सुनील नरेन (बॉलिंग ऑलराउंडर)

Source: vknews

सुनील नरेन अपनी शानदार गेंदबाज़ी के लिए जाने जाते हैं. लेकिन पिछले साल से अपनी टीम के लिए ओपनिंग बल्लेबाज़ी भी करने लगे हैं. उनकी धमाकेदार बल्लेबाज़ी के आगे अच्छे-अच्छे गेंदबाज़ों के पसीने छूट जाते हैं. इस साल उनको आईपीएल के 'मोस्ट वैल्यूऐबल प्लेयर' का ख़िताब भी मिला है. 190 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी करते हुए उन्होंने 357 बहुमूल्य रन भी बनाये. जबकि 16 मैचों में 17 विकेट्स भी हासिल किये.

8. के. एल. राहुल (विकेटकीपर बल्लेबाज़)

Source: sportskeeda

किंग्स इलेवन पंजाब के धमाकेदार विकेटकीपर बल्लेबाज़ राहुल आईपीएल-11 में सबसे ज़्यादा रन बनाने के मामले में तीसरे नंबर पर रहे. राहुल ने 54.91 के शानदार औसत के साथ 14 मैचों में कुल 659 रन बनाये. उन्होंने अपनी शानदार बल्लेबाज़ी के दम पर टीम को कई मैच जिताये. मुम्बई इंडियंस के ख़िलाफ़ खेली गयी 94 रन की धमाकेदार पारी को कैसे भूल सकते हैं?

9. अंबाती रायडू (बल्लेबाज़)

Source: freepressjournal

अंबाती रायडू पिछले साल तक मुंबई इंडियन के लिए खेला करते थे. लेकिन पिछले साल उनको सिर्फ़ 5 मैच ही खेलने को मिले जिसमें उन्होंने सिर्फ़ 91 रन बनाये. यही कारण था कि मुंबई इंडियंस ने इस साल उनको अपनी टीम में नहीं लिया. लेकिन अंबाती ने इस साल चेन्नई की जीत में अहम भूमिका निभाई. उन्होंने शानदार बल्लेबाज़ी करते हुए 16 मैचों में 1 शतक के साथ कुल 602 रन बनाये. इसी प्रदर्शन के दम पर उन्होंने एक बार फिर टीम इंडिया में वापसी की है.

10. ट्रेंट बोल्ट (बॉलर)

Source: sportskeeda

दिल्ली डेयरडेविल्स के मुख़्य तेज़ गेंदबाज़ ट्रेंट बोल्ट द्वारा लिया गया RCB के कप्तान विराट कोहली का शानदार कैच आईपीएल-11 का बेस्ट बन गया. बोल्ट द्वारा बाउंड्री पर डाइव मारते हुए एक हाथ से शानदार कैच लपकने के बाद न सिर्फ़ दर्शक बल्कि कोहली भी हैरान थे. कैच ही नहीं, बोल्ट ने शानदार गेंदबाज़ी करते हुए 14 मैचों में 18 विकेट्स भी लिए.

आप ही बताएं कि आपकी नज़र में इस साल का बेस्ट प्लेयर कौन था?