ISIS इराक के शहर मोसुल में अपनी पकड़ मजबूत बनाए रखने के लिए कई नए पैंतरे आज़मा रहा है. इराकी सेना के साथ इस लड़ाई में वह लाचार कुत्तों को भी हथियार बनाने से बाज़ नहीं आ रहा. हाल ही में एक वीडियो वायरल हुआ है. इस वीडियो में इराकी सेना से समर्थन पाए विद्रोही एक मासूम पिल्ले के साथ नज़र आ रहे हैं. वीडियो देखकर साफ़ है कि इस पिल्ले के शरीर में बम को बांधा गया है. ये बम कई बोतलों का इस्तेमाल कर बनाया गया है और बिजली की तारों से कनेक्टेड है.

वीडियो में ये लोग ये समझाने की भी कोशिश कर रहे हैं कि कैसे ISIS आतंकी ऐसे ही तमाम पिल्लों को फ्रंटलाइन पर छोड़ देते हैं और रिमोट कंट्रोल की मदद से उन्हें बम से उड़ा देते है.

दो मिनट की इस वीडियो में तीन आदमी इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि कैसे इन नन्हें जानवरों को ISIS एक सुसाइड बम की तरह इस्तेमाल करता है और कैसे ये सुसाइड बम एक घातक हथियार बनते जा रहे हैं.

गौरतलब है कि इस पिल्ले को वीडियो में मौजूद लोग बचाने में कामयाब रहे थे. इस पिल्ले के सुसाइड बॉम्बर बनने से पहले ही बम को डिफ़्यूज़ कर लिया गया.

इराकी सेना का दबाव बढ़ते देख ISIS के ये लड़ाके किसी भी हद से गुज़रने को तैयार हैं. नन्हें पिल्लों को सुसाइड बम बनाकर फोड़ने का ये तरीका नया नहीं है.

इससे पहले भी ये आतंकी संगठन दुकानों में बिकने वाले ड्रोन्स का भी इस्तेमाल कर चुका है. इन ड्रोन्स का इस्तेमाल ISIS के आतंकी, इराकी सैनिकों और वहां के लोगों पर बम गिराने के लिए करते हैं.

कुछ लोगों का मानना है कि चूंकि ये वीडियो विद्रोही गुटों द्वारा सामने आया है, ऐसे में इस पर पूरी तरह से विश्वास नहीं किया जा सकता. मगर वीडियो से साफ़ है कि इस कुत्ते को किस निर्ममता से उड़ाने की कोशिश की जा रही थी. ISIS के लड़ाके कई बिल्लियों के साथ भी तस्वीरें खिंचवा चुके हैं ताकि उनकी इमेज में थोड़ा बदलाव आए और वे ज़्यादा से ज़्यादा विदेशी लड़ाकों को अपनी ओर आकर्षित कर सकें.

गौरतलब है कि इराकी सरकार मोसुल को ISIS के आतंकियों के चंगुल से निकालने के लिए एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम दे रही है. इराक के सबसे बड़े शहर मोसुल के कुछ हिस्सों को तो सेना ने छुड़ा लिया है लेकिन अब भी शहर का बड़ा हिस्सा इस आतंकी संगठन के कब्ज़े में है.

इराक की सेना ने मोसुल शहर के पूर्वी भाग को आतंकियों के हिस्से से छुड़ा लिया है लेकिन मोसुल के प्राचीन पश्चिमी क्षेत्रों को आतंकियों से छुड़ाने में उसे एड़ी चोटी का ज़ोर लगाना पड़ रहा है. इस क्षेत्र में मौजूद कई संकरी गलियों की वजह से अक्सर इराकी सिपाही और ISIS के लड़ाके मोसुल की गलियों में ही मुठभेड़ करते दिखाई दे सकते हैं.

Source: Metro