कहते हैं न कि प्यार में सब कुछ जायज़ होता है. लेकिन इतना भी जायज़ नहीं कि वो देश के संविधान और क़ानून के ख़िलाफ़ हो. प्यार में इंसान न जाने क्या-क्या कर जाता है. जब बात शादी-ब्याह की होती है, तो फिर घरवालों की मंज़ूरी भी ज़रूरी हो जाती है. लेकिन आंध्र प्रदेश के कुरनूल ज़िले के उपपरहल गांव में 13 साल के बच्चे ने अपने से 10 साल बड़ी लड़की से शादी कर सबको चौंका दिया है. ये मामला ये लव मैरिज़ का नहीं, बल्कि अरेंज मैरिज़ का है.

Source: indiatoday

HT की ख़बर के अनुसार, पुलिस ने शनिवार को बताया कि ये शादी पिछले महीने की 27 तारीख़ को हुई थी. जहां 13 साल के बच्चे ने अपनी मां के कहने पर 23 साल की लड़की से शादी की है. स्थानीय निवासियों का कहना है कि लड़के की मां बीमार रहती है और वो चाहती थी कि उसके बेटे की शादी ऐसी लड़की से हो जो घर संभाल सके. इसीलिए एक छोटे सा समारोह कर इन दोनों की शादी कर दी गयी. लेकिन स्थानीय अधिकारियों को इस ख़बर के बारे में तब पता चला जब सोशल मीडिया पर इस शादी की तस्वीरें वायरल होने लगीं.

Source: hindustantimes

ये दुल्हन कर्नाटक के बेल्लारी ज़िले के चनिकिकुर गांव की रहने वाली है. इन दोनों की शादी दोनों परिवारों की सहमति से हुई है. बताया जा रहा है कि नाबालिग से शादी की ख़बर सरकारी अधिकारीयों तक पहुंचने के बाद से ही दोनों परिवार डर के मारे गायब हैं. जब ज़िला महिला विकास एवं बाल कल्याण अधिकारी शारदा और स्थानीय तहसीलदार श्रीनिवास राव के नेतृत्व में सरकारी अधिकारियों की एक टीम गांव में इस बात की जांच के लिए गए तो उनके घर में ताला लगा हुआ पाया.

स्थानीय निवासियों ने कहा कि, बीमार महिला और उसका पति खेतों में मज़दूरी कर भरण-पोषण करते हैं. महिला पति के शराब पीने से चिंतित रहती थी कि उसकी मौत के बाद परिवार की देखभाल कौन करेगा. उनके चार बच्चे हैं दो लड़के और दो लड़कियां हैं. महिला चाहती थी कि उसका बड़ा बेटा जो 13 साल का है किसी ऐसी लड़की से शादी कर ले, जो उम्र में बड़ी हो ताकि घर संभाल सके.

इस महिला को उसके किसी रिश्तेदार से पता चला कि कर्नाटक के चनिकिकुर गांव में एक दंपति अपनी बेटी की शादी करना चाह रहे हैं. इस पर महिला ने उस परिवार से संपर्क किया. इसके बाद दोनों परिवारों की रज़ामंदी से 27 अप्रैल दोपहर 3.05 बजे इन दोनों की शादी कर दी गयी.

तहसीलदार श्रीनिवास राव ने कहा, ये शादी ग़ैरक़ानूनी है.अगर दो दिनों के अंदर दोनों परिवार दूल्हा और दुल्हन को ज़िला अधिकारियों को नहीं सौंपते हैं, तो उनके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया जाएगा.

जब लड़के के माता-पिता से बात करने के लिए उनसे संपर्क किया गया, तो उनका मोबाइल फ़ोन स्विचड ऑफ़ जा रहा था.

Source: hindustantimes