दुनिया के कई हिस्सों में फ़्लोटिंग मार्केट (Floating Market) यानि कि पानी पर तैरते हुए मार्केट मौजूद हैं और भारत इस मामले में थोड़ा पीछे है, लेकिन साल 2018 में भारत के पास भी अपना खुद का एक फ़्लोटिंग मार्केट होगा.

कोलकाता देश का पहला ऐसा शहर होने जा रहा है जहां फ़्लोटिंग मार्केट भी उपलब्ध होंगे. कोलकाता मेट्रोपॉलिटन डेवलेपमेंट अथॉरिटी ने म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के साथ मिलकर Patuli क्षेत्र की एक वॉटर बॉडी को फ़्लोटिंग मार्केट में तब्दील कर दिया है. इस जगह पर 200 दुकानें होंगी. इस वॉटर बॉडी के विकास पर 10 करोड़ रुपये खर्च हुए.

Floating Market of Patuli, देश का पहला ऐसा मार्केट होने जा रहा है जो 500 मीटर लंबा होगा और 60 मीटर चौड़ा होगा. जनवरी में इसे आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा. इस मार्केट का उद्घाटन सीएम ममता बनर्जी करेंगी और यहां पहुंचने के लिए किसी तरह की एंट्री फ़ीस नहीं ली जाएगी.

Source: ak4.picdn

काउंसलर अरूप चक्रवर्ती ने कहा कि हमारे अरबन डेवलेपमेंट और म्युनिसिपल अफ़ेयर्स मिनिस्टर फ़िरहाद हाकिम हाल ही में एक सेमिनार में शामिल होने बैंकॉक गए थे. उन्होंने वहां इन Floating मार्केट्स को देखा और उन्हें कोलकाता में भी ऐसा ही मार्केट शुरू करने का ख्याल आया. कोलकाता में एक मंत्री भी ऐसा ही करने का प्लान कर रहे थे. फ़िरहाद ने उनसे संपर्क किया और उन्हें अपने क्षेत्र में मौजूद वॉटर बॉडीज़ के बारे में बताया. उन्होंने KMDA अफ़सरों को निरीक्षण के लिए भेजा. रिपोर्ट पॉज़िटिव मिलने के बाद KMDA और KMC इस मार्केट के निर्माण में जुट गए. ये देश का पहला और एशिया का तीसरा फ़्लोटिंग मार्केट होगा.

ये मार्केट चार क्लस्टर्स में बांटा जाएगा, सब्ज़ियां, मछली, मीट और किराने का सामान. यहां वॉटर बॉडी में Walkways होंगे जिनकी मदद से इन क्लस्टर्स में पहुंचा जा सकेगा. दोनों ही Walkways के साइड में बोट्स होंगी जहां इन चीज़ों को बेचा जाएगा. ये बोट्स ही इस मार्केट में फ़्लोटिंग दुकानें होंगी. इसके अलावा प्लास्टिक और कचरे की सफ़ाई के लिए अतिरिक्त स्टाफ़ भी रखा जाएगा.

Source: cdn.business2community

उन्होंने कहा कि ईस्टर्न मेट्रोपॉलिटन बाइपास को हाल ही में छह लेन का किया गया है. सड़क चौड़ी होने की वजह से जो दुकानदार ईस्टर्न मेट्रोपॉलिटन बाइपास एरिया से बेदखल कर दिए गए थे, उन्हें फ़्लोटिंग मार्केट में काम करने का मौका मिलेगा.