अगर आप 90 के दशक से ताल्लुक रखते हैं, तो आपके में घर वो कोना ज़रूर होगा, जहां वो सारी बुक्स और मैगज़ीन्स रखीं होंगी, जो आपने बचपन में पढ़ी थीं. चंपक, नंदन, टिंकल सरीखी इन मैगज़ीन्स को पढ़ने के लिए हम हर महीने इसके नए एडिशन का बेसब्री से इंतज़ार करते थे. इनमें हमें किस्से-कहानियां पढ़ने के साथ ही बहुत सी रोचक जानकारियां भी मिल जाती थीं. उस ज़माने में यही हमारे मनोरंजन का साधन हुआ करती थीं. चलिए एक बार फिर से उन सुनहरी यादों को ताज़ा कर देते हैं.

1. चंपक

Source: lifeofguru.com

इस कॉमिक बुक में कहानियां, पहेलियां, स्पॉट द डिफ़रेंस, अलग-अलग तरह के कॉनटेस्ट और चुटकुले होते थे. हर महीने इसके नए संस्करण का इंतज़ार करते थे. ये पूरे देश में बिकती थी और बच्चे इसे बड़े चाव से पढ़ते थे.

2. Tell Me Why

Source: mysubs

इस मंथली मैगज़ीन को फै़क्ट्स की खदान कहा जाता था. इसमें तरह-तरह की जानकारियां मिलती थीं. 90 के दशक के सभी पढ़ाकू बच्चे, जिन्हें हर वक़्त कुछ नया जानने की चाह रहती थी, उनकी प्यास यहीं बुझती थी.

3. गोकुलम

Source: magzter

गोकुलम चंपक के जैसी ही मैगज़ीन थी, जो तमिल और इंग्लिश में प्रकाशित होती थी. इसमें किस्से-कहानियों के साथ ही करेंट अफे़यर्स, इतिहास और हेल्थ से रिलेटेड जानकारियां भी होती थीं.

4. बालविहार

Source: chinmayakids

इसमें ऐसी पौराणिक कथाएं होती थीं, जो बच्चों को नैतिकता, व्यवहार और कौशल विकास के बारे में सिखाती थी. इसके कुछ स्पेशल एडिशन भी रिलीज़ होते थे.

5. नंदन

Source: indianebooks

हिंदुस्तान न्यूज़ पेपर द्वारा शुरू की गई ये मैगज़ीन आज भी बच्चों की फ़ेवरेट है. इसमें रोचक कहानियां, पहेली, जानकारी मिलती हैं. इसे चाचा नेहरू की याद में हिंदुस्तान ने शुरू किया था.

6. चकमक

Source: eklavya

वैसे तो चकमक बच्चों की मैगज़ीन है, लेकिन बड़े भी इसे चाव से पढ़ते हैं. इसमें आसान भाषा में विज्ञान की गुत्थियों को सुलझाया जाता था.

7. बालसखा

Source: pages

बालसखा हिंदी की बच्चों की सबसे लोकप्रिय मैगज़ीन थी. इस पत्रिका ने बच्चों पर तो प्रभाव डाला ही, साथ में बच्चों के लिए लिखने वाले लेखक भी तैयार किए.

8. नन्हें सम्राट

Source: magzter

नन्हें सम्राट 6-16 साल के बच्चों की एक एंटरटेनमेंट मैगज़ीन थी. इसमें बच्चों को मजे़दार ढंग से शिक्षा देने की कोशिश की जाती थी.

9. बालहंस

Source: balhans

ये छोटे बच्चों के लिए बहुत ही उम्दा मैगज़ीन थी, जिसे टीचर्स भी पसंद करते थे.

10. चंदामामा

Source: pyaretoons

चंदामामा अपनी ग़ज़ब के स्टोरी टेलिंग के लिए फे़मस थी. बचपन में सोने से पहले ये पढ़ना काफ़ी अच्छा लगता था और साथ ही हर कहानी से एक सीख भी मिलती थी. अब इसमें स्पोर्ट्स और टेक्नोलॉजी की भी जानकारियां दी जाने लगी हैं.

11. अमर चित्रकथा

Source: booksnotborders

अमर चित्रकथा ने हमें श्रीकृष्ण,ईसा मसीह, राम जैसी तमाम महान आत्माओं को समझने में मदद की. इसकी कहानियां ऐसी थी, जिसे बच्चे खु़द को इनसे आसानी से रिलेट कर लेते थे.

12. पंचतंत्र

Source: magzter

पंचतंत्र में कहानियों की एक सीरिज़ थी, जिसके अंत में हमेशा एक सीख दी जाती थी. इसकी ख़ासियत ये थी कि इसके सभी किरदार जानवर ही होते थे.

13. तेनाली रामन

Source: rajnishmishravns.wordpress

16वीं शताब्दी में विजयनगर के कवि तेनाली रामकृष्णा पर आधारित थी ये कॉमिक. तेनाली अपनी चतुराई और कमाल के सेंस ऑफ़ ह्यूमर के साथ हर समस्या का समाधान निकाल लेता था. इस पर बहुत से टीवी सीरियल और फ़िल्म बन चुकी हैं.

14. टिंकल

Source: shopclues

इस मैगज़ीन के किरदार सुपंदी, शिकारी शंभू, कालिया कौवा आज भी सबको याद हैं. इसमें बच्चों को कहानियों के साथ ही बहुत से प्रश्नों के उत्तर और पहेलियों के जवाब मिल जाते थे.

अगर आपकी फ़ेवरेट मैगज़ीन इसमें शामिल है, तो इसे अपने दोस्तों से शेयर करना न भूलें.