Source: PTI

हिंदी भाषियों के लिए अच्छी ख़बर है. भारतीय पासपोर्ट अब हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों में उपलब्ध होंगे. अब तक भारतीय पासपोर्ट केवल अंग्रेज़ी में बनता था.

पासपोर्ट बनवाने वालों के लिए एक और ख़ुशख़बरी है कि अब आठ साल से कम और 60 साल से ऊपर के आवेदकों को, Passport फ़ीस में 10 फ़ीसदी छूट मिलेगी.

Representative Image Source: NDTV

Passport Act, 1967, के 50 वर्ष पूरे होने के मौके पर आयोजित सेमीनार में विदेश मंत्री ने कहा, ‘पासपोर्ट कम से कम दो भाषाओं में होने चाहिए. सभी अरब देशों में पासपोर्ट अरबी में होते हैं, जर्मनी में जर्मन भाषा में और रूस में रूसी भाषा में होते हैं. हम इन्हें हिंदी में क्यों नहीं बना सकते?'

विदेश मंत्री के इस फ़ैसले से हिंदी भाषियों को बेहद ख़ुशी होगी.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कहा, अब से सभी भारतीय पासपोर्ट हिंदी तथा अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में होंगे.