अगर सच कहूं, तो ऊपर वाला बस हमें बनाता है, पर अपनी किस्मत हमें खुद लिखनी होती है. अब जैसे कल्पना चावला को ही ले लीजिये, अगर कल्पना ने आसमान में उड़ने का सपना नहीं देखा होता, तो क्या हम उनकी बात करते? अपने आस-पास देखें, तो हमें बहुत-सी ऐसी कहानियां और किस्से मिल जायेंगे, जिनमें लोगों ने अपने सपनों को जिया और फ़र्श से अर्श तक पहुंचे. आज हम आपको कुछ ऐसे ही लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने बुलंद इरादों से खुद अपनी किस्मत लिखी.

धीरू भाई अंबानी

आज जिन अंबानी बंधुओं को आप लाखों-करोड़ों का कारोबार करते हुए देखते हैं. उसकी नींव धीरू भाई अंबानी ने रखी थी, जो कभी गैस स्टेशन पर अटेंडेंट का काम किया करते थे.

Source: businessworld

महमूद

'गुमनाम' से ले कर 'पड़ोसन' जैसी फ़िल्मों में अपनी कॉमिक टाइमिंग से लोगों को हंसाने वाले महमूद का सफ़र भी कुछ कम कठनाइयों वाला नहीं रहा. ड्राइवर से ले कर वो सामान बेचने का काम कर चुके थे.

Source: upperstal

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

बॉलीवुड में आज मेथड एक्टिंग की पहचान बन चुके नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी NSD से पास होने के बाद दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर थे. यहां तक कि उन्होंने रात में गॉर्ड का काम तक किया.

Source: emirates

राकेश ओमप्रकाश मेहरा

अपने निर्देशन से बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बना चुके राकेश ओमप्रकाश मेहरा भी कभी घर-घर जा कर वैक्यूम क्लीनर बेचने का काम कर चुके हैं.

Source: indianexpress

बोमन ईरानी

फ़िल्मों में आने से पहले बोमन ईरानी भी होटल में वेटर के साथ अपनी मम्मी की बेकरी में अस्सिटेंट का काम कर चुके हैं.

Source: reddif

देव आनंद

सदाबहार एक्टर देव आनंद का सफ़र भी कुछ कम मुश्किलों भरा नहीं था. अपनी रोजी रोटी चलाने के लिए वो कभी सेंसर बोर्ड के दफ़्तर के बाहर मूंगफली बेचा करते थे.

Source: rediff

नरेंद्र मोदी

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बचपन भी मुश्किलों भरा रहा है. बचपन में जीविका चलाने के लिए उन्होंने चाय तक बेची, पर कभी अपने सपनों को नहीं मरने दिया.

Source: anand