आईपीएल 2018 रॉयल चैलेंजर बेंगलोर के लिए अब तक बेहद ख़राब रहा है. RCB ने अब तक खेले गए 9 मैचों में से सिर्फ़ 3 मैच ही जीते हैं, जबकि 6 मैचों में उसे करारी हार झेलनी पड़ी है. इतने ख़राब प्रदर्शन के बाद RCB के लिए टॉप 4 में जगह बनाना बेहद मुश्किल है. टीम इस समय मात्र 6 पॉइंट्स के साथ छठे पायदान पर काबिज़ है. कप्तान विराट कोहली तो अच्छे फ़ॉर्म में हैं, लेकिन टीम के अन्य खिलाड़ी कुछ ख़ास नहीं कर पा रहे हैं, ख़ासकर गेंदबाज़. वैसे भी इस आईपीएल में RCB की गेंदबाज़ी सबसे कमज़ोर मानी जा रही है.

Source: sport360

शनिवार को चेन्नई सुपर किंग के ख़िलाफ़ खेले गए एक मुक़ाबले में RCB को क़रारी हार झेलनी पड़ी थी. विराट की सेना इस मैच में धोनी के धुरंधरों के आगे सिर्फ़ 127 रन के स्कोर पर सिमट गयी. CSK ने ये मैच 6 विकेट से जीता. टीम की जीत में अहम भूमिका निभाते हुए जडेजा ने 4 ओवर में 18 रन देकर 3 विकेट हासिल किए. इस मैच में सबसे यादगार पल था सर रविंद्र जडेजा का विराट कोहली को आउट करना. कोहली को आउट करना हर गेंदबाज़ के लिए ख़ुशी का पल होता है. जडेजा के लिए भी कुछ ऐसा ही था.

दरअसल, हुआ यूं कि मैच के सातवें ओवर में धोनी ने अपने चहेते रविंद्र जडेजा को गेंदबाज़ी के लिए बुलाया, सामने बल्लेबाज़ी कर रहे थे कोहली, जडेजा ने जैसे ही पहली गेंद डाली, गेंद विराट कोहली को चकमा देती हुई उनके ऑफ़ स्टंप उखाड़ती हुई निकल गयी. विराट को आउट करने के बाद सर रविंद्र जडेजा ने ज़्यादा ख़ुशी मनाने के बजाय शांत तरीके से कोहली को घूरते हुए आगे निकल गए. ये रिएक्शन कुछ अजीब सा था. जडेजा के इस रिएक्शन को देखकर कोहली भी उन्हें सरसरी नज़र से देखते हुए पवेलियन की ओर चल दिए.

इस रिएक्शन को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल होने के बाद रविंद्र जडेजा ने इस मामले में अपनी सफ़ाई देते हुए कहा 'जब मैंने कोहली का विकेट लिया तो वो मेरी पहली बॉल थी. उस वक़्त मैं जश्न के लिए तैयार ही नहीं था, इसीलिए मैंने जश्न नहीं मनाया. कोहली का विकेट लेना हमेशा बड़ी बात होती है. मैं अपनी गेंदबाजी को एन्जॉय कर रहा था. अच्छा लग रहा है कि नेट्स में जिस चीज़ को लेकर इतने दिनों से जो मैं वर्कआउट कर रहा था, फ़ाइनली मैच में वही हुआ. हमारी टीम मैच जीती वो ज़्यादा इम्पोर्टेंट था.'

लगता है जडेजा का ये कोहली को करारा जवाब था. क्योंकि जिस वक़्त जडेजा और आश्विन की सफ़ल जोड़ी आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहले और दूसरे स्थान पर काबिज़ थी. तभी से इन दोनों को टीम इंडिया के लिए वनडे और टी-20 मैच खेलने के मौके नहीं मिल पा रहे हैं. कप्तान कोहली जडेजा और आश्विन के बजाय चहल और कुलदीप की जोड़ी पर कुछ ज़्यादा ही भरोसा दिखा रहे हैं.

Source: indiatoday