भारत में लड़कियों के साथ बढ़ते दुर्व्यवहार को देखते हुए मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार ने मुंबई में महिलाओं के लिए एक सेल्फ़ डिफ़ेंस सेंटर की स्थापना की थी. यहां महिलाएं फ़्री में मनचलों की छेड़छाड़ से बचने के गुर सीख सकती हैं. ये तकनीक कई बार कितनी ज़्यादा कारगर हो सकती है, इसका ताज़ा उदाहरण अमेरिका में देखने को मिला.

Source: newsapi

वॉशिंगटन के सीएटल शहर में रहने वाली केली हेरोन प्रतिदिन की तरह ही गोल्डन गार्डंस पार्क में जॉगिंग कर रही थी कि तभी एक शख़्स ने उन पर हमला कर दिया.

Source: BoredPanda

हेरोन पर हमला करने वाला शख़्स इससे पहले भी सेक्स अपराधों में शामिल रहा है. हेरोन ने इसकी जमकर पिटाई की और उसे बाथरूम में बंद करने में सफ़ल रहीं. ये पूरा घटनाक्रम उनके फ़िटनेस ट्रैकर पर रिकॉर्ड हो गया है. उन्होंने इस मामले को कुछ इस तरह इंस्टाग्राम पर शेयर किया.

My biggest running nightmare became reality- 4 miles into my long run Sunday afternoon, I stopped to use the restroom and was assaulted by a man hiding in a stall (that is my GPS in red lines). I fought for my life screaming("Not today, M**F**er!"), clawing his face, punching back, and desperately trying to escape his grip- never giving up. I was able to lock him in the bathroom until police arrived. Thankfully I just took a self-defense class offered at my work and utilized all of it. My face is stitched, my body is bruised, but my spirit is intact. #fightingchanceseattle #ballard #runnersafety #marathontraining #womensselfdefense #myballard #fightlikeagirl #fightback #dontbeavictim #nottodaymotherfucker #youcantbreakme #instarunners #garmin #garminvivosmarthr

A post shared by Kelly Herron (@run_kiwi_run) on

मेरी ज़िंदगी का सबसे बुरा सपना आज हकीकत बनते बनते रह गया. रविवार की दोपहर मैं 4 मील जॉगिंग करते हुए रेस्ट रूम का इस्तेमाल करने जा रही थी. वहीं एक स्टॉल के पास छुपे एक आदमी ने मुझसे जबरदस्ती करने की कोशिश की. मैं अपनी ज़िंदगी के लिए लड़ने लगी. मैंने उसके चेहरे को नोचा, उसे पंच किया और उसकी ग्रिप से छूटने की पूरी कोशिश की. इस हाथापाई के बीच मैं उसे बाथरूम में बंद करने में सफ़ल रही और वो वहां तब तक कैद रहा, जब तक पुलिस वहां नहीं आ गई. शुक्र है कि मैंने अपने ऑफ़िस में आयोजित सेल्फ डिफेंस क्लास में हिस्सा लिया था. मैंने इस क्लास से सीखे गुरों का भरपूर इस्तेमाल किया. मेरे चेहरे पर चोट है, मेरा शरीर दर्द से कराह रहा है पर मेरी आत्मा अब भी सुकून में है.

केली का अनुभव साबित करता है कि सेल्फ़ डिफ़ेंस तकनीकें, छेड़छाड़ और रेप की घटनाओं के मामले में बेहद कारगर साबित हो सकती हैं और भारत में भी लड़कियों को सेल्फ़ डिफ़ेंस को लेकर प्रेरित करना चाहिए.