बेज़ुबान जानवरों पर क्रूरता का क्या अंजाम होता है, केरल में एक व्यक्ति ने ये पाठ अच्छे से पढ़ लिया है. केरल में हो रही एक परेड के दौरान एक हाथी ने एक शख़्स को इतने ज़ोर से लात मारी कि वह बिजली की गति से नीचे जा गिरा. सौभाग्य से हाथी की इस ज़बरदस्त किक के बावजूद ये शख़्स ज़िंदा बच गया.

सरस्वती नाम की ये मादा हाथी उन दर्जनों हाथियों में शुमार है, जिन्हें धार्मिक समारोह में शामिल होना पड़ता है. ये हाथी मंदिर के दूसरे हाथियों के साथ परेड कर रही थी. हाथियों को भगवान गणेश का अवतार माना जाता रहा है, लेकिन जानवरों के हकों के लिए लड़ने वाले कई एक्टिविस्ट्स, इस क्षेत्र में हाथियों पर होने वाले अत्याचारों की आलोचना करते रहे हैं.

यहां के ज़्यादातर मंदिरों पर जानवरों को ठीक ढंग से बर्ताव न करने के आरोप लगते रहे हैं.कुछ वाइल्डलाइफ़ एक्टिविस्ट्स का कहना है कि कई जानवरों को टॉर्चर किया जाता है और उन्हें भूखा रखा जाता है. कई बार तो इन हाथियों को ड्रग्स देकर नपुंसक बना दिया जाता है. गौरतलब है कि केरल में लगभग हर बड़े मंदिर में हाथी मौजूद हैं.

वाइल्डलाइफ़ एक्टिविस्ट राजीव एन. कुरुप ने कहा कि 'अगर आप जानवरों को समझने की कोशिश नहीं करेंगे और उनकी ज़रुरतों का ख्याल नहीं रखेंगे, तो ऐसे हादसे होते रहेंगे'. उन्होंने कहा कि 'केरल में हाथी जैसे खतरनाक और संवेदनशील जानवरों के साथ बुरा बर्ताव किया जाता है और जब ये जानवर हिंसक प्रतिक्रिया देते हैं तो लोग ऐसे हैरानी जताते हैं, जैसे उनकी कोई गलती ही न हो'.

Source: The Sun