पाकिस्तान में महिलाओं की स्थिति आज भी दयनीय है. 2015 की वर्ल्ड इकनोमिक फोरम की लैंगिक भेद रिपोर्ट में 145 देशों में पाकिस्तान का 143वां नंबर था. राजनीतिक, सामाजिक स्तर पर भी उनकी स्थिति को अच्छा नहीं कहा जा सकता. लेकिन पाक में पितृसत्ता की बेड़ियों को तोड़ते हुए एक टैक्सी सर्विस ने ताज़े झोंके के रुप में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है.

हाल ही में गुज़रे अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर पैक्सी कंपनी ने पिंक टैक्सी सर्विस को कराची में लॉन्च किया है. पैक्सी ने 6 महिला ड्राइवरों की नियुक्ति की है और ये सभी प्रशिक्षित ड्राइवर्स हैं. किरण राव 18 साल की हैं और वे इस सर्विस की पहली महिला ड्राइवर हैं. वे फ़िलहाल सिविल इंजीनियरिंग डिप्लोमा कर रही हैं और कराची में प्रोफे़शनल ड्राइवर बन अपने पैशन को भी फ़ॉलो कर रही हैं.

किरण ने कहा कि "मैंने सातवीं क्लास में गाड़ी चलाना सीखा था. मेरा कोई भाई नहीं है और मेरे पिता हर समय काम में बिज़ी रहते थे. मुझे गाड़ी चलाना बहुत पसंद भी था सो मेरे लिए ज़रुरी था कि मैं गाड़ी चलाना सीखूं, ताकि अपने परिवार की देखभाल कर सकूं".

किरण ड्राइविंग, सेल्फ़ डिफ़ेंस, टायर बदलने में प्रशिक्षित हैं. इसके अलावा वे First Aid और इमरजेंसी परिस्थितियों को संभालने में भी सक्षम हैं. कई पाकिस्तानी महिलाओं को उबर/करीम जैसी कैब एप लेने में सुरक्षा का डर रहता है. ये डर रात होने पर और बढ़ जाता है. ऐसे में पैक्सी जैसे अनूठे प्रयास के साथ ही महिलाएं बेझिझक यात्रा कर सकती हैं.

Source: Auratraaj

किरण ने कहा कि "मेरे परिवार वाले शुरुआत में मेरी सुरक्षा को लेकर चिंतित थे और नहीं चाहते थे कि मैं ये काम करुं, लेकिन जब उन्हें ये पता चला कि मुझे केवल महिलाओं के साथ ही डील करना है और जब उन्होंने मेरी ट्रेनिंग को देखा तो उनका डर खत्म होता चला गया."

किरण के मुताबिक, एक पब्लिक बस में केवल 20 प्रतिशत स्पेस ही महिलाओं के लिए होती है और कई बार वो स्पेस भी मर्द हथिया लेते हैं. पब्लिक ट्रांसपोर्ट में हैरसमेंट का खतरा बहुत रहता है, ऐसे में पिंक टैक्सी पाकिस्तान की कामकाजी महिलाओं और छात्राओं के लिए सुरक्षित ऑप्शन हो सकता है. इन टैक्सी राइड्स को ट्रैक और मॉनीटर भी किया जाएगा जिससे महिला यात्री और ड्राइवर दोनों ही पूरी यात्रा के दौरान सुरक्षित महसूस कर सकें.

इन महिलाओं की यूनिफ़ॉर्म में पिंक स्कार्फ़ भी शामिल होगा और ये टैक्सी एप, कॉल सेंटर या एसएमएस द्वारा सुबह 7 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक बुक की जा सकेंगी. पैक्सी इस मायने में भी दूसरी टैक्सी सर्विस से अलग है कि ये केवल महिला यात्रियों को ही कराची की सड़कों से पिक करेंगी और इस सर्विस को केवल महिलाओं के लिए शुरु किया गया है. इस सर्विस की ड्राइवर्स कराची शहर के कई क्षेत्रों से आती हैं

पिंक टैक्सी के मालिक ज़ाहिद शेख का कहना है कि "अगर हमारी महिलाएं हवाई जहाज उड़ा सकती हैं तो वे टैक्सी क्यों नहीं चला सकतीं?"

इस सर्विस से ज़्यादा से ज़्यादा पाकिस्तानी महिलाओं के लिए रोज़गार के अवसर बढ़ेंगे. इसके अलावा वर्कप्लेस और सड़कों पर भी महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने में मदद मिलेगी. उम्मीद है कि इस कदम के बाद पाकिस्तान की पब्लिक लाइफ़ में महिलाओं की भागीदारी में बढ़ोतरी होगी.

Source: bbc