भले ही पढ़-लिख कर हम ईश्वर की सत्ता से इंकार करते हों, पर रात को अंधेरी और सुनसान सड़क से गुज़रते हुए न चाहते हुए भी भूतों का ख़्याल आ ही जाता है. हालांकि भूतों के बारे में माना जाता है कि वो बड़े ही सेक्युलर होते हैं और बिना किसी भेदभाव के अपना काम करते हैं, पर तेलंगाना के निर्मल ज़िले के एक छोटे से गांव में बड़े ही अजीबोगरीब किस्म के बहुत घूमते हुए दिखाई दे रहे हैं.

ख़बरों के मुताबिक, इस गांव में दर्जनों की तादाद में चुड़ैलें मर्दों का शिकार कर रही हैं. इन चुड़ैलों के ख़ौफ़ का आलम ये हो गया है कि अब गांव में बस औरतें ही रह गई हैं. 60 परिवार वाले इस गांव में चुड़ैलों ने एक ही परिवार के 3 मर्दों को अपना शिकार बनाया. 3 महीने के अंदर इन मर्दों की गाला रेत कर हत्या कर दी गई. गांव वालों के मुताबिक, इन तीनों का सामना चुड़ैलों से हुआ था.

Representative Image Source: ipleaders

गांव में ज़्यादातर पत्थर तोड़ने का काम करते हैं, जो एक-आध गांव में मौजूद हैं वो भी रात को सोते समय भी दरवाज़े और खिड़कियों को अच्छे से बंद करते हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक, गांव के लोगों में इन चुड़ैलों का इतना ख़ौफ़ है कि ये सुबह सूरज निकलने के बाद और डूबने से पहले ही घर के बाहर निकलते हैं. सबसे ताज्जुब की बात ये है कि इन चुड़ैलों ने अब तक किसी महिला को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है.

इन चुड़ैलों की कहानी देख कर यही लगता है शायद ये ही असली फ़ेमिनिस्ट हैं.

Source: dailymail