सेना के जवानों के लिए हम भारतीयों में एक अलग ही तरह का सम्मान होता है. इसे आपने भी कभी न कभी ज़रूर महसूस किया होगा. वहीं हमारे बीच कई ऐसे उदाहरण मौजूद हैं, जो इससे एक कदम आगे बढ़कर सैनिकों और उनके परिवारों के लिए कुछ भी करने को तत्पर दिखाई देते हैं. उन्हीं में से एक हैं डॉक्टर अजय चौधरी, जो सैनिकों और उनके परिवारवालों का मुफ़्त में इलाज कर रहे हैं.

लखनऊ के गोमती नगर इलाके में डॉक्टर अजय चौधरी का क्लीनिक है. इस क्लीनिक के गेट पर आपको एक नोटिस चिपका दिखाई देगा. इसमें लिखा है- ‘यहां फ़ौजियों को परामर्श शुल्क देने की ज़रूरत नहीं. आप हमारी फ़ीस बॉर्डर पर दे चुके हैं. कृपया आईडी कार्ड साथ लाएं.’

इसकी वज़ह से डॉक्टर आस-आस पास के इलाके में फ़ेमस हो गए हैं. डॉक्टर चौधरी ने इस संदर्भ में एएनआई से कहा कि- 'देश के बॉर्डर पर तैनात सैनिकों के लिए ये मेरी तरफ़ से एक छोटा सा ट्रीब्यूट है. वो जिस तरह बिना किसी स्वार्थ के हमारी रक्षा करते हैं, उसके आगे तो ये कुछ भी नहीं है.'

ख़ास बात ये है कि उनके पिता भी एक आर्मी ऑफ़िसर हैं. साथ ही उनका छोटा भाई भारतीय नौसेना में कार्यत है. डॉक्टर अजय ने आर्मी में भर्ती होने के लिए एनडीए की परीक्षा दी थी, लेकिन वो इसे क्लीयर नहीं कर पाए. तभी से ही वो देश की सेवा करना चाहते थे और इसी सिलसिले में उन्होंने ये तरीका खोज निकाला.

देश की सेवा करने का ये उनका तरीका है और ऐसा करने से उन्हें बहुत सुकून मिलता है. डॉक्टर अजय देश के रियल हीरो हैं, जो बिना किसी दिखावे के देशभक्ति कर रहे हैं. हमारे समाज को ऐसे ही हीरोज़ की ज़रूरत है. 

Source: Aninews